Yamuna Expressway update

यमुना एक्सप्रेस-वे चलते ही दौड़ेगा रीयल एस्टेट
29 Apr 2011, 0400 hrs IST,हेलो दिल्ली

महकार भाटी।।
अथॉरिटी के अनुसार, यमुना एक्सप्रेस-वे जून तक शुरू होने के आसार हैं। इसके आसपास पहले ही रीयल एस्टेट की गतिविधियां तेज हो चुकी हैं, जिनका और बढ़ना तय माना जा रहा है। एक नजर डाल रहे हैं।

ग्रेटर नोएडा से आगरा तक बनाए जा रहे 165 किलोमीटर लंबे यमुना एक्सप्रेस-वे का निर्माण फाइनल स्टेज में पहुंच गया है। इससे यमुना अथॉरिटी के अधिकारियों में उत्साह है। अथॉरिटी के अधिकारियों का कहना है कि जून तक यमुना एक्सप्रेस-वे बनकर तैयार हो जाएगा। तभी इसे चालू भी कर दिया जाएगा। एक्सप्रेस-वे पर ग्रेटर नोएडा से आगरा तक बने सभी इंटरचेंज भी बनकर तैयार हो चुके हैं। गौरतलब है कि इस एक्सप्रेस-वे की शुरुआत का रीयल एस्टेट मार्केट में भी बड़ी उत्सुकता से इंतजार किया जा रहा है। तभी तो इसका कंस्ट्रक्शन शुरू होने के समय से ही इसके आसपास कई रेजिडेंशल प्रॉजेक्ट्स लॉन्च किए जा चुके हैं और यह सिलसिला आज भी जारी है।

Unknown Object
एक्सप्रेस-वे की खास बात
अथॉरिटी अधिकारियों के अनुसार यूपी के 5 जिलों गौतमबुद्धनगर, अलीगढ, मथुरा, महामायानगर और आगरा से होकर गुजरने वाले इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण सभी जिलों में एक साथ शुरू किया गया था। इसके चलते हर जिले में एक्सप्रेस-वे का निर्माण पूरा हो गया है। इसके दोनों ओर सेफ्टी ग्रिल भी लगा दी गई हैं। ग्रेटर नोएडा से आगरा तक जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। ऐंबुलेंस भी तैनात की जाएंगी।

तैयार है मास्टर प्लान
वहीं, यमुना अथॉरिटी का मास्टर प्लान 2031 बनकर तैयार हो गया है। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि मास्टर प्लान में जेवर एयरपोर्ट के लिए 36 गांवों की करीब 10 हजार एकड़ जमीन रिजर्व रखी गई है। शहर के सभी सेक्टरों की सड़क 60 मीटर से अधिक चौड़ी रहेगी है। शहर को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए करीब 30 प्रतिशत से अधिक एरिया रिजर्व रखा गया है, जिसमें फलदार व छायादार पेड़ लगाए जाएंगे। पार्क भी बनाए जाएंगे।

बनेंगी कई टाउनशिप
यमुना एक्सप्रेस-वे के किनाने कई बड़ी-बड़ी टाउनशिप बसाई जाएंगी। इनमें 4 यूनिवर्सिटी सहित 10 कॉलेजों को प्लॉट आवंटित कर दिए गए हैं। यहां 12 से अधिक बिल्डरांे को 100, 200 व 150 एकड़ के प्लॉट दिए जाने हैं। ये बिल्डर एक्सप्रेस-वे के किनारे हाईराइज बिल्डिंग बनाएंगे। यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे ही अथॉरिटी एशिया की सबसे बड़ी मेगा रेजिडेंशल टाउनशिप भी बसाने जा रही है। यह मेगा टाउनशिप 4500 एकड़ जगह में बसाई जाएगी। अथॉरिटी सूत्रों का कहना है कि इस टाउनशिप में करीब 20 लाख लोगों का घर का सपना पूरा होगा।

लोकेशन है बेस्ट
मेगा टाउनशिप की लोकेशन यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे पर होगी। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि टाउनशिप में पहुंचने के लिए लोगों को कहीं भी जाने पर रास्ता पूछने की जरूरत नही पड़ेगी। डीएनडी फ्लाईओवर से होते हुए नोएडा -ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर पहुंचने के बाद शफीपुर इंटरचेंज से यमुना एक्सप्रेस-वे पर आना होगा। इसके बाद सीधे मेगा टाउनशिप पहंुच सकते हैं। उधर, हरियाणा-पलवल-कुंडली से सोनीपत तक बनने वाले पैरिफेरल एक्सप्रेस-वे को भी यमुना एक्सप्रेस-वे टच करता हुआ जाएगा। इससे भी सीधे टाउनशिप पहुंचा जा सकता है। यहां आगरा, अलीगढ़, गाजियाबाद, मेरठ ,मुरादाबाद से भी लोग सीधे पहुंच सकते हैं। ग्रेटर नोएडा में बनने वाला रेलवे जंक्शन व ट्रांसपोर्ट हब भी नजदीक होगा। यहां से लोग ट्रेन व बस पकड़कर देश में किसी भी शहर के लिए आसानी से आ जा सकते हैं। टाउनशिप से दिल्ली मेट्रो का भी लिंक होगा। नोएडा सिटी सेंटर से ग्रेटर नोएडा परी चौक तक जाने वाली मेट्रो को यमुना तक भी पहुंचाने की अथॉरिटी की योजना है।

रोजगार बढ़ने से भी आएगा बूम
अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि मेगा रेजिडेंशियल टाउनशिप बसने से हजारों लोगों को रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। यहां बड़े-बड़े मॉल बनाए जाएंगे, जिससे लोग एक ही जगह अपनी जरूरत का सामान खरीद सकें। मॉल बनने से हजारों युवकों को रोजगार मिल सकेगा। टाउनशिप में रहने वाले लोगों को अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा दिलाने के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। प्राइमरी स्कूल से हायर एजुकेशन तक का इंतजाम यहीं होगा। यहां मेडिकल व टेक्निकल कॉलेज भी होंगे। यहां रेस्तरां, पब, बार, पेट्रोल पंप, सीएनजी पंप, गोल्फ, फाइव स्टार होटल, मोटल आदि भी होंगे। इनमें हजारों युवकों को रोजगार मिलेगा। रीयल एस्टेट का नियम है कि जहां जॉब के ज्यादा मौके होते हैं, वहां रीयल एस्टेट तेजी से बढ़ता है। जाहिर है कि यमुना एक्सप्रेस-वे शुरू होने के बाद आसपास के इलाकों में रीयल एस्टेट में काफी बूम दिखाई देगा।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/8109102.cms

अक्टूबर में फर्राटा भरेगा यमुना एक्सप्रेस वे

Apr 22, 11:37 pm

आगरा, जागरण संवाददाता: ग्रेटर नोएडा से आगरा को जोड़ने वाले यमुना एक्सप्रेस वे पर इस साल अक्टूबर के अंत तक वाहन फर्राटा भरने लगेंगे।

आगरा में बाहरी रिंग रोड निर्माण में लगने वाले समय को देखते हुए फिलहाल दिल्ली से आने वाले वाहनों को कुबेरपुर पर एक्सप्रेस वे छोड़ना होगा। इसी प्रकार दिल्ली या नोएडा के लिये भी यहीं से यात्रा शुरू की जा सकेगी। इसके लिये एक्सप्रेस वे और एन एच-2 के बीच एंट्री प्वाइंट्स भी तेजी से बनाए जा रहे हैं। इस मार्ग के शुरू हो जाने से अलीगढ़, हाथरस, गौतमबुद्ध नगर की पहुंच तो सहज हो ही जाएगी, प्रस्तावित ताज इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्रोजेक्ट भी ठंडे बस्ते से बाहर आ सकता है।

Unknown Object

165 किमी के एक्सप्रेस वे का सबसे अहम आकर्षण फार्मूला-1 कार रेस ट्रैक होगा, इसका निर्माण भी जेपी ग्रुप साथ-साथ करवा रहा है। फेडरेशन इंटरनेशनल डी ल ऑटो मोबाइल (एफआईए) के विशेषज्ञ जून में इसका निरीक्षण करेंगे। यमुना एक्सप्रेस वे इंडस्ट्रियल अथॉरिटी के प्रथम चरण की कार्ययोजना को भी शासन से स्वीकृति मिल गई है। वर्तमान में अथॉरिटी द्वारा 25 से 250 एकड़ के बीच उद्योग की स्थापना, आईटी, बायोटेक, स्पोर्ट, मनोरंजन सेवा क्षेत्र और खेल कांप्लेक्सों के लिये आवेदन मांगे जा रहे हैं।

एक्सप्रेस वे प्रोजेक्ट के अधिशासी अधिकारी राजीव रौतेला ने बताया कि शीघ्र ही ग्रीन बेल्ट विकसित करने का काम शुरू कर दिया जायेगा।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_7622948.html

Yamuna Expressway to be ready by Oct 30

Posted: Wed Apr 20 2011, 03:37 hrs Lucknow:

The Yamuna Expressway, connecting Delhi to Agra, will be completed by October 30, well in time for the first Indian Grand Prix (Formula-1), the track for which is being made in Greater Noida. Both the 165-km-long expressway and the race track are being developed by the Jaypee Group. The October slot for Formula 1 has been fixed subject to the final inspection by experts of the Federation International de l’Automobile (FIA) in June.

Originally, the expressway was to be built by March 31, but work got stalled when farmers launched an agitation in Tappal, near Aligarh, last year to demand higher compensation for land acquired for a township project which is part of the expressway. After the government pacified the farmers, a new deadline of July was fixed. However, at a meeting today to review the progress of the project, representatives of the Jaypee Group informed the government that they needed more time for construction of interchanges at Agra for which the forest department clearance was received only recently. In all, seven interchanges have to be built.

http://www.indianexpress.com/news/Yamuna-Expressway-to-be-ready-by-Oct-30/778624/

जून में चालू होगा यमुना एक्सप्रेस वे
12 Apr 2011, 0020 hrs IST,नवभारत टाइम्स

आदेश भाटी ॥ ग्रेटर नोएडा
यमुना एक्सप्रेस वे को चालू करने के लिए डेडलाइन तय हो गई है। यह जून में चालू हो जाएगा। ग्रेटर नोएडा से आगरा तक सभी अंडर पास बनकर तैयार हैं और उनकी फिनिशिंग का काम चल रहा है। एक्सप्रेस वे पर सुरक्षा और चिकित्सा की भी सुविधा होगी। इसके लिए जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे और एंबुलेंस तैनात की जाएंगी। ग्रेटर नोएडा से आगरा तक 165 किलोमीटर लंबा यमुना एक्सप्रेस वे बन रहा है। अथॉरिटी के ओएसडी कुलदीप सिंह का कहना है कि एक्सप्रेस वे पर बने सभी इंटरचेंज भी बनकर तैयार हैं।
Unknown Object
ग्रेटर नोएडा से 123 किलोमीटर दूर वन विभाग के कुछ पेड़ एक्सप्रेस वे की जद में आ रहे थे। इन्हें काटने की परमिशन न मिलने के कारण यहां इंटरचेंज बनाने में दिक्कत आ रही थी पर दो माह पहले परमिशन मिल गई।

अथॉरिटी अधिकारियों के अनुसार यूपी के 5 जिलों गौतमबुद्धनगर, अलीगढ़, मथुरा, महामायानगर और आगरा से होकर गुजरने वाले इस एक्सप्रेस वे का निर्माण सभी जिलों में एक साथ शुरू किया गया था। इसके चलते हर जिले में एक्सप्रेस वे का निर्माण पूरा हो गया है। एक्सप्रेस वे के दोनों ओर सेफ्टी ग्रिल भी लगा दी गई हैं।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7949246.cms

Yamuna e-way till Jewar likely by December-end
Greater Noida,
Though the farmers’ agitation has delayed the completion of 165-km-long Yamuna Expressway by a few more months, the Yamuna Expressway Authority (YEA) yesterday discussions with developer Jaypee Infratech to make sure that expressway till Jewar be ready by December-end.


This will provide connectivity to the Formula 1 racing track site and the proposed Airport.

Y.K. Bahl, additional CEO of YEA, said, “We had told the developer Jaypee Infratech to complete the expressway by March 2011. But due to the recent violent agitation of farmers in Aligarh, Mathura and Agra, it had put spanner in the project work. However, with farmers accepting the new land acquisition policy, work is expected to progress smoothly now.”

“Next year, Formula 1 race is scheduled to be organised in Greater Noida. Track work is going on at a fast speed. On Saturday, a YEA team inspected the progress of work on the expressway. The way work is being carried out till Jewar under Gautam Buddh Nagar district, it seems it will be ready by December 31,” said Bahl.

“The YEA officials are also holding discussions with Aligarh, Mathura and Agra district officials to see that no more obstacles come in the expressway work,” said Bahl.

“Around 80 per cent work on the 165-km stretch has been completed. The bridge over the river and the railway line at some stretches is taking time. The developer has been rescheduling the project. But it will be ready by December 2011,” said Bahl.

“For greenery, a nine-metre green belt is being developed on the central verge and two green belts on the either side of the expressway,” said Bahl.

The total length of the Taj Expressway is 164.775-km from Greater Noida to Agra. The expressway’s length in Gautam Buddh Nagar district is 41.2 km. In Gautam Buddh Nagar, 23 underpasses and seven bridges are being constructed as part of the expressway.

The expressway has changed the lifestyle of nearby villagers. These villagers hail from Safipur, Haldona, Chuharpur Khadar, Kasna, Gharbara, Mursadpur, Mirzapur, Roniza, Rustampur, Mehandipur, Karoli Bangar and Dayantpur.

The expressway has two interchanges. One at zero point in Greater Noida’s village Safipur from where the expressway starts and the other at 38-km near the projected Airport site.

The projected speed at the expressway is 120 km/ per hour. The Taj Expressway is 10-feet above the ground level. Four hundred hectares was acquired in Gautam Buddh Nagar for the project. The remaining part of the Taj Expressway falls under Hathras, Aligarh and Agra districts. The entire expressway is on the eastern bank of the Yamuna.

It may be recalled that work on the project was stalled in 2003 when the Mulayam Singh Yadav government came into power in Uttar Pradesh. After several inquiries, the Mulayam Singh government cleared the project in 2007, before the collapse of his government. After Mayawati took over the UP government, the project was resumed.

Had the project not been stalled for more than three years, it would have been ready before the Commonwealth Games.

Source: http://www.tribuneindia.com/2010/20101212/delhi.htm#9

Yamuna Expressway Map (Taj Expressway)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: