Greater Noida- Mega projects for world class city

मेगा प्रोजेक्ट्स ग्रेनो को बनाएंगे वर्ल्ड क्लास
8 Jan 2011,

श्यामवीर चावड़ा ॥ ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा के बाद अब यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी का विकास होगा। एक्सप्रेस-वे के किनारे नोएडा और ग्रेटर नोएडा से भी बडे़- बड़े शहर बसाए जाएंगे। फर्स्ट फेज में ग्रेटर नोएडा से जेवर तक का विकास होगा। इसका मास्टरप्लान तैयार किया जा रहा है। यह अब अंतिम चरण में है।

यमुना एक्सप्रेस-वे का विस्तार ग्रेटर नोएडा से आगरा तक है। हाल ही में इस अथॉरिटी में बुलंदशहर जिले के 40 गांवों को शामिल किया गया है। अब इसके अंडर 1167 गांव आते हैं। इस तरह यमुना एक्सप्रेस- वे अथॉरिटी के अंडर गौतमबुद्धनगर, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा, महामायानगर और आगरा जिले के गांव आते हैं। इस लिहाज से यमुना एक्सप्रेस- वे अथॉरिटी देश की सबसे बड़ी अथॉरिटी है। यमुना अथॉरिटी की प्लानिंग व करार के मुताबिक, ग्रेटर नोएडा से आगरा तक यमुना एक्सप्रेस- वे के किनारे 2000 हेक्टेयर जमीन जेपी ग्रुप को दी गई है। इस जमीन पर जेपी ग्रुप इंडस्ट्रियल, इंस्टिट्यूशनल, आईटी और रेजीडेंशल समेत तमाम मेगा प्रोजेक्ट्स बनाएगा। जेपी गु्रप को 500 हेक्टेयर जमीन ग्रेटर नोएडा में गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी के नजदीक दी गई है। इसी जमीन पर फॉर्म्युला वन रेस ट्रैक, स्पोर्ट्स सिटी आदि का विकास किया जाएगा। 500 हेक्टेयर जमीन प्रस्तावित जेवर एयरपोर्ट से पहले दी जानी है। इस जमीन पर भी टाउनशिप बसाई जाएगी। जेपी ग्रुप को 500 हेक्टेयर जमीन अलीगढ़- टप्पल के नजदीक और 500 हेक्टेयर आगरा- चौगान के पास दी जाएगी। इन स्थानों पर टाउनशिप स्कीमें लाई जाएंगी।
ग्रेटर नोएडा से आगरा तक बनने वाले यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे मेगा प्रोजेक्ट लगाए जाने हैं। मेगा प्रोजेक्ट्स लाने में यमुना अथॉरिटी के अलावा जेपी ग्रुप का भी अहम रोल होगा। समझौते के मुताबिक, यमुना एक्सप्रेस- वे का निर्माण कराने वाली कंपनी जेपी ग्रुप को प्रदेश सरकार से मेगा प्रोजेक्ट्स के लिए 2500 हेक्टेयर जमीन मिलनी है। इनमें से 500 हेक्टेयर जमीन पहले ही नोएडा में दी जा चुकी है, जिस पर कंपनी ने निर्माण कार्य शुरू करा दिया है। एक्सप्रेस- वे के किनारे कुल 22 एसडीजेड (स्पेशल डिवेलपमेंट जोन) बनाए जाने हैं। इस मेगा सिटी में मानक और सुविधाएं अमेरिका, चीन, यूरोप, सिंगापुर और दुबई के बराबर होंगी। दूसरी ओर ग्रेटर नोएडा से आगरा तक की तस्वीर बदलने के लिए यमुना अथॉरिटी भी कई प्रोजेक्ट्स पर काम कर रही है।
फर्स्ट फेज में ग्रेनो टु जेवर होगा विकसित
फर्स्ट फेज में ग्रेटर नोएडा से जेवर तक का विकास होगा। इसके लिए यमुना अथॉरिटी ने सिटी लेवल डिवेलपमेंट जोनल प्लान 2031 तैयार किया है। इसमें 133 गांव हैं। जोनल प्लान का कुल एरिया 42457 हेक्टेयर रखा गया है। इसमें 2314 हेक्टेयर जमीन एयरपोर्ट के लिए रखी गई है। 758 हेक्टेयर में गांवों की आबादी है। फ्यूचर डिवेलपमेंट के लिए 11982.30 हेक्टेयर जमीन रिजर्व है। यमुना एक्सप्रेस- वे का निर्माण कर रही जेपी ग्रुप के इन्फ्रास्ट्रक्चर के डिवेलपमेंट के लिए 1000 हेक्टेयर जमीन निर्धारित की गई है। कुल 26402.70 हेक्टेयर जमीन पर सेक्टर बसाए जाएंगे। इसमें से 834 हेक्टेयर जमीन रोड डिवेलपमेंट में यूज की जाएगी।
जोनल प्लान में 25 पर्सेंट ग्रीनरी निर्धारित की गई है। यमुना अथॉरिटी के जोनल प्लान 2031 में प्रस्तावित एयरपोर्ट , पब्लिक व सेमी पब्लिक ऑफिस , ट्रांसपोर्ट एंड होलसेल हब , फैसिलिटी एरिया , ग्रीन बेल्ट , कमर्शल एरिया , मेट्रो कॉरिडोर , प्रस्तावित ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस – वे , रेलवे स्टेशन , रेलवे ट्रैक , बस टर्मिनल , हाई कैपेसिटी पब्लिक ट्रांसपोर्ट कॉरिडोर , मेट्रो स्टेशन और फ्यूचर डिवेलपमेंट के लिए स्पेस होंगे। ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस – वे यमुना एक्सप्रेस – वे को जगनपुर – अफजलपुर गांव के पास कनेक्ट करेगा। 130 मीटर रोड के पास से जेवर तक मेट्रो कॉरिडोर होगा। जेवर के नजदीक ही मेट्रो स्टेशन प्रस्तावित है। जोनल प्लान के मुताबिक , ग्रेटर नोएडा से जेवर तक यमुना एक्सप्रेस – वे के आसपास डिवेलपमेंट किया जाएगा। हाल ही में अथॉरिटी ने ग्रेटर नोएडा के नजदीक एनसीआर की सबसे बड़ी आवासीय स्कीम लॉन्च की थी जो काफी हिट साबित हुई थी।
तैयार हो रहा है एक और एजुकेशन हब
ग्रेटर नोएडा में एक और एजुकेशन हब तैयार हो रहा है। यह गौतमबुद्ध यूनिवर्सिटी के पास यमुना एक्सप्रेस – वे के किनारे होगा। यमुना अथॉरिटी ने 1 जुलाई 2009 को यमुना एक्सप्रेस – वे के किनारे ग्रेटर नोएडा में 25 से 250 एकड़ साइज के प्लॉट्स की माइक्रो एसडीजेड स्कीम लॉन्च की थी। इसमें इंडस्ट्रियल , आईटी , बायोटेक , इंस्टिट्यूशनल , स्पोर्ट्स , रिक्रिएशनल और सर्विस इंडस्ट्री के लिए प्लॉट्स थे। पूरी स्कीम का साइज लगभग 500 एकड़ है। इंस्टिट्यूशनल प्लॉट्स के लिए बड़ी संख्या में कॉलेज संचालकों ने रुचि दिखाई थी। गलगोटिया , जी . एल . बजाज , आदि नामी कॉलेज संचालकों ने यहां निवेश किया है। एक्सप्रेस – वे के किनारे एक यूनिवर्सिटी का भी निर्माण हो रहा है। इसके साथ – साथ छोटे साइज के प्लॉट्स की स्कीम लॉन्च कर अथॉरिटी प्ले स्कूल , इंटर कॉलेज , डिग्री कॉलेज , अस्पताल , दुकानों आदि की भी व्यवस्था कर रही है।

Source: http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/7237045.cms

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: