Yamuna Expressway: Key to connect many UP cities

यमुना एक्सप्रेसवे पर हरियाली के लिए 118 ट्यूबवैल

Story Update : Tuesday, February 01, 2011    1:12 AM

ग्रेटर नोएडा। विश्व की बेहतरीन तकनीकी से निर्माणाधीन यमुना एक्सप्रेसवे पर हरियाली के लिए विशेष व्यवस्था की जाएगी। जेपी ग्रुप ने प्राधिकरण से ग्रेटर नोएडा लेकर आगरा तक 118 ट्यूबवैल लगाने की इजाजत मांगी है, ताकि हाइवे के किनारे वाली घास की सिंचाई की जा सके। सिंचाई का काम मजदूर न करके आधुनिक मशीनें करेंगी। ऐसी व्यवस्था हो जाने के बाद हाइवे पर चलने के दौरान कहीं भी धूल का कण नहीं मिलेगा। इसके अलावा मास्टर प्लान में बदलाव किया जा रहा कि यमुना नदी के किनारे सिर्फ हरियाली वाले स्पोर्ट समेत अन्य प्रोजेक्ट ही लाए जाएं।

मालूम हो कि ग्रेटर नोएडा से लेकर आगरा तक 165 किलोमीटर लंबा और सौ मीटर चौड़ा यमुना एक्सप्रेसवे का निर्माण चल रहा है। करीब 9900 करोड़ रुपये जेपी ग्रुप खर्च कर रहा है। ग्रेटर नोएडा से लेकर जेवर, अलीगढ़ से लेकर मथुरा और मथुरा से लेकर आगरा तक प्रोजेक्ट को तीन चरणों में बांटा गया है। ग्रेटर नोएडा ले लेकर जेवर तक काफी हद तक काम पूरा हो गया है। इसके पीछे कारण है कि अक्तूबर में फार्मूला वन रेस के दौरान हाइवे चालू होना है। अगले माह तक वाहनों का आना जाना शुरू कर दिया जाएगा।
सूत्र बताते हैं कि हाइवे चालू करने के लिए जेपी ग्रुप अपनी तरफ से कोई कमी नहीं छोड़ रहा है लेकिन आगरा के पास पेड़ काटने को लेकर कोर्ट में लंबित है। जब तक उसका निपटारा नहीं हो जाता, तब तक हाइवे चालू होना मुश्किल है। यह हकीकत है कि हाइवे टुकड़ों में चालू नहीं हो सकता। वैसे हाइवे चालू करने के लिए जेपी ग्रुप ने प्राधिकरण को 2013 का समय दिया है।

http://www.amarujala.com/city/Noida/Noida-8164-73.html

The residents of Noida Extention should keep the hope alive for metro passing via 130 meter expressway upto Jewar airport. Yamuna Expressway authority has shown this metro corridor in their YEA Zonal Plan 2031. Now it is not a question of if but a question of when- we anticipate this happening during 2nd Phase after completion of Noida-GNoida metro in 2014.

यूपी के कई शहरों को जोड़ेगा यमुना एक्सपे्रस-वे
29 Jan 2011, 0400 hrs IST

श्यामवीर चावड़ा ॥ ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा से आगरा के लिए बनाया जा रहा यमुना एक्सप्रेस-वे यूपी के कई महत्वपूर्ण शहरों को डायरेक्ट जोड़ने के लिए महत्वपूर्ण साबित होगा। इसके लिए आगरा में 22 किलोमीटर लंबा रिंग रोड बनना शुरू हो गया है। यह रिंग रोड एनएच-2 से जुड़ेगा। यहां से कानपुर आसानी से पहुंचा जा सकेगा। इसके अलावा यह एक्सपे्रस-वे ग्वालियर-मुंबई हाइवे को भी कनेक्ट करेगा।
ग्रेटर नोएडा से आगरा तक बनने वाला 165 किलोमीटर लंबा यमुना एक्सप्रेस-वे से अब सिर्फ ताज का ही दीदार नहीं होगा, बल्कि लोग इससे कानपुर, मुंबई या ग्वालियर तक का सफर करने में आसानी होगी। यमुना एक्सप्रेस-वे ग्रेटर नोएडा से आगरा के कुबेरपुर में पहुंचकर खत्म हो रहा है। यहां से ताजमहल तक पहुंचने के लिए लगभग 22 किलोमीटर की दूरी तय करनी होती है। वहीं अगर आगरा के अंदर घुस जाएं तो भयंकर जाम में फंस जाएंगे। इससे बचने के लिए कुबेरपुर से आगरा में करीब 22 किलोमीटर लंबा रिंग रोड बनना शुरू हो गया है। यह प्रोजेक्ट भी जेपी ग्रुप को दिया गया है।

इस रोड के बनने के बाद यमुना एक्सप्रेस-वे आगे चलकर एनएच-2 से कनेक्ट करेगा। एनएच-2 से होकर यहां से करीब 286 किलोमीटर दूर कानपुर में पहुंचा जा सकेगा। इस तरह यमुना एक्सप्रेस-वे से होकर कानपुर लगभग 6 घंटे में पहुंच जाएंगे। अभी तक जीटी रोड से होकर कानपुर पहुंचने में लगभग 10 घंटे से ज्यादा समय लगता है। वहीं रास्तों में जाम भी मिलता है। उसके बाद लगने वाला समय 12 से 15 घंटे तक हो जाता है।
इसके अलावा रिंग रोड बनने के बाद ताजमहल के दीदार करने में कोई दिक्कत नहीं होगी। यमुना एक्सप्रेस-वे से होकर टूरिस्ट आगरा मंे ताजमहल देख सकेंगे और उसके बाद एनएच-2 से होकर कानपुर में ऐतिहासिक बिटूर और अन्य ऐतिहासिक स्थल देखे जा सकेंगे। इसके साथ ही एक्सप्रेस-वे मुंबई-ग्वालियर हाइवे से भी जुड़ जाएगा।
वहीं आगरा में रिंग रोड बन जाने के बाद फरीदाबाद, बल्लभगढ़, पलवल आदि शहरों के लोगों को भी फायदा होगा। दिल्ली से एनएच-2 हरियाणा के फरीदाबाद, बल्लभगढ़, पलवल आदि शहरों से होकर आगरा पहुंचेगा। रिंग रोड के जरिए बगैर आगरा के अंदर घुसे कानपुर जाया जा सकेगा।
जीरो पॉइंट इंटरचेंज को दिया फाइनल टच
ग्रेटर नोएडा से आगरा के बीच बनाए जा रहे 165 किलोमीटर लंबे यमुना एक्सप्रेस-वे का जीरो पॉइंट यहां गलगोटिया कॉलेज के पास है। नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे से यमुना एक्सप्रेस-वे इसी स्थान पर कनेक्ट हो रहा है। दोनों एक्सप्रेस-वे को कनेक्ट करने के लिए यहां इंटरचेंज का निर्माण तेजी पर है। इसको फाइनल टच दे दिया गया है। नोएडा और ग्रेटर नोएडा से आने वाले लोग इसी से होकर यमुना एक्सप्रेस-वे पर पहुंचेंगे। इस पूरे प्रोजेक्ट पर जेपी ग्रुप काम कर रहा है। हालांकि ग्रुप को इसका निर्माण कार्य 2013 तक पूरा करने की अनुमति मिली हुई है, लेकिन शासन के निर्देश और फॉर्म्युला वन रेस को देखते हुए इसे मार्च-अप्रैल तक पूरा करना है। हालांकि कुछ इंटरचेंज और अन्य फैसिलिटीज का निर्माण बाद में भी चलता रहेगा। इंटरचेंज के स्थान पर सर्विस लेन पर गाडि़यों को उतारकर फिर से मेन रोड पर चढ़ा दिया जाएगा। अथॉरिटी के साथ-साथ शासन भी इस प्रोजेक्ट पर पूरी नजर बनाए हुए हैं। यह यूपी की सीएम मायावती के ड्रीम प्रोजेक्ट्स में से एक है। प्रोग्रेस के संबंध में हर 15 दिनों में यमुना अथॉरिटी, जेपी ग्रुप और शासन के अधिकारियों के बीच लखनऊ में मीटिंग की जाती है।
यमुना अथॉरिटी सूत्रों के अनुसार मथुरा और आगरा के बीच एक्सप्रेस – वे का काम 82 प्रतिशत हो चुका है। ग्रेटर नोएडा से जेवर तक 70 प्रतिशत काम हो गया है। वहीं अलीगढ़ और आगरा के बीच अभी 45 प्रतिशत काम ही हो सका है। यहां किसानों के अडं़गे के कारण काम में देरी हो रही थी।
ग्रेनो टु आगरा तक बसेंगे नए शहर
यमुना अथॉरिटी के अफसरों के अनुसार ग्रेटर नोएडा से आगरा तक एक्सप्रेस – वे के किनारे टाउनशिप बसाई जाएगी। फर्स्ट फेज में ग्रेटर नोएडा से जेवर तक विकास किया जाएगा। इसमें 133 गांव हैं। इसका कुल एरिया 42457 हेक्टेयर है। इसमें एयरपोर्ट के लिए 2314 हेक्टेयर जमीन एयरपोर्ट के लिए रिजर्व रखी गई है। 758 हेक्टेयर में गांवों की आबादी है। फ्यूचर डिवेलपमेंट के लिए 11982.30 हेक्टेयर जमीन रिजर्व है। यमुना एक्सप्रेस – वे के निर्माण कर रही जेपी ग्रुप के इन्फ्रास्ट्रक्चर के डिवेलपमेंट के लिए एक हजार हेक्टेयर जमीन निधार्रित की गई है। कुल 26402.70 हेक्टेयर जमीन पर सेक्टर बसाए जाएंगे। इसमें से 834 हेक्टेयर जमीन रोड डिवेलपमेंट में यूज की जाएगी।
जोनल प्लान में 25 प्रतिशत ग्रीनरी निधार्रित की गई है
यमुना अथॉरिटी के जोनल प्लान 2031 में प्रस्तावित एयरपोर्ट , पब्लिक व सेमी पब्लिक ऑफिस , ट्रांसपोर्ट एंड होलसेल हब , फैसिलिटी एरिया , ग्रीन बेल्ट , कमर्शल एरिया , मेट्रो कॉरिडोर , प्रस्तावित ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस – वे , प्रस्तावित रेलवे स्टेशन , रेलवे ट्रैक , प्रस्तावित बस टर्मिनल , हाई कपैसिटी पब्लिक ट्रांसपोर्ट कॉरिडोर , मेट्रो स्टेशन और फ्यूचर डिवेलपमेंट के लिए स्पेस रखे गए हैं। ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस – वे यमुना एक्सप्रेस – वे को जगनपुर – अफजलपुर गांव के पास कनेक्ट करेगा। 130 मीटर रोड के पास से जेवर तक मेट्रो कॉरिडोर दिखाया गया है। जेवर के पास ही मेट्रो का स्टेशन प्रस्तावित है। जोनल प्लान के अनुसार ग्रेटर नोएडा से जेवर तक यमुना एक्सप्रेस – वे के आसपास डिवेलपमेंट किया जा एगा।

Source: http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7380698.cms

More news on Yamuna Expressway

yamuna-expressway-delhi-agra-fast-travel

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: