Noida-GNoida-Gbd: Metro n Eway plans

Noida Authority approves extension of Metro’s line 8

Atul Mathur, Hindustan Times
New Delhi, May 11, 2011

The Noida Authority on Monday gave in principle approval for extension of proposed line 8 — Janakpuri to Kalindi Kunj — up to Botanical Garden in Noida Sector 32. While the Delhi cabinet and the group of ministers have already given its approval to the project, senior DMRC officials said approval an

d signing of memorandum of understanding between the Noida Authoirty officials and Delhi Metro Rail Corporation (DMRC) is mandatory to ensure immediate construction.

Unknown Object

The 3.7-kilometre extension will have just one station en route — tentatively named as Amity Metro station for its proximity to Amity University — and will end at the existing Botanical Garden Metro station. The extension is likely to cost R786 crore.

While the DMRC will bear the cost of the rolling stock and operational expenditure, the Noida Authority will have to pay for the construction and will have to provide land for construction of the Metro line and the stations.

The extension will reduce the distance and travelling time between south Delhi and Noida. Running parallel to outer Ring Road in Delhi, the proposed Janakpuri West — Noida corridor will cut through some prominent residential and commercial hubs in south Delhi.

Senior DMRC officials said the section will benefit a large number of people who travel between Noida and south Delhi every day.

“This corridor will have two inter-change stations — at Kalkaji on Badarpur line and at Hauz Khas on Gurgaon line —which help people move anywhere in south and central Delhi from Noida and Greater Noida and vice-versa in matter of just few minutes,” said a senior DMRC official.

Since the Noida Authority is also planning construction of its own light rail transit system between Noida and Greater Noida, this line would virtually bring Greater Noida and south Delhi very close to each other.

The 37.2-kilometre corridor — 33.5-km in Delhi and 3.7-km in Noida — will have 24 elevated and 12 underground stations. The line will also serve as an alternate to Dwarka — Noida section for people who travel between west Delhi and Noida.

http://www.hindustantimes.com/Noida-Authority-approves-extension-of-Metro-s-line-8/Article1-695975.aspx

New Noida plan to ease traffic towards Delhi

Darpan Singh, Hindustan Times
Noida, May 06, 2011

Thousands of vehicles running everyday on snarl-ridden stretches within the city and towards Delhi, will soon get some relief. Noida Authority has sanctioned Rs 90 crore for construction of five bridges across irrigation and Shahdara drains in the city. “Over time, roads kept getting widened but, th

e ‘puliaas, or drain bridges, have remained too narrow, throwing traffic out of gear,” said an official.

Unknown Object

These bottlenecks have been identified at five points: Bhangel, sector 14A to Golchakkar, Film City to sector 18, sector 95 park road and Kalindi Kunj.

Shahdara drain and irrigation drain are the two major one passing through the city and finally falling into the Yamuna.

Both drains carry wastewater of Delhi. Noida does not have any outfall in the Shahdara drain. All sub drains fall into the irrigation drain.

These new bridges will have eight lanes. Work will start in two months and has to be completed within a year.

According to the plan, the existing bridges will continue to be used for traffic and commuters will not have to bear the brunt of diversion because of widening and construction.  The idea also is to improve riding quality on these stretches.

“The problem has taken an alarming proportion as despite the number of vehicles going up rapidly, the planning department never expanded these drain bridges. Now that money has been allocated, tenders will soon be floated to begin the project,” the official said.

The authority has separate plans for makeover of these drains too. Project engineer Samakant Srivastav said: “We are going in for covers which could be opened. Catch basins and cleaning chambers will be constructed to screen out solid waste and trap silt.”

Despite Metro service, connectivity between the two cities has been a problem. After a survey on vehicular pressure, the authority recently expanded three points at sector 8, Jhundpura and Kondli in Noida to facilitate smoother vehicular flow. The three narrow points —  connecting Noida to east Delhi — have 70,000 vehicles plying daily.

Congestion leads to traffic snarls on the four existing full-fledged links: NH-24, Mayur Vihar, Kalindi Kunj and the DND flyway.

Yamuna bridge
Construction of a bridge (addition of four lanes to the existing Kalindi Kunj bridge) over the Yamuna will also begin soon. The Delhi-Noida connectivity project, an alternative to DND toll flyway, will cost Rs 300 crore. On its completion, travel between Faridabad, Delhi, Noida and Ghaziabad will become smoother. Commuters from South Delhi and Faridabad use this bridge to reach Noida and Ghaziabad.

http://www.hindustantimes.com/New-Noida-plan-to-ease-traffic-towards-Delhi/Article1-694005.aspx

मिनी एक्सप्रेस-वे का काम फिर शुरू
13 May 2011, 0400 hrs IST

नगर संवाददाता॥ जीडीए

एनएच -24 को ग्रेटर नोएडा से जोड़ने के लिए प्रस्तावित मिनी एक्सप्रेस – वे का काम गुरुवार से फिर शुरू हो गया है। जीडीए ने ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी से इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए 25 करोड़ रुपये की डिमांड की थी। ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने 10 करोड़ रुपये रिलीज कर दिए हैं। बाकी 15 करोड़ रुपये बाद में मिलने की बात कही जा रही है।

ग्रेटर नोएडा को विजय नगर बाईपास के पास एनएच -24 से जोड़ने के लिए चार लेन बनाने का काम फिर शुरू होने से जीडीए और ग्रेनो अथॉरिटी ने राहत की सांस ली है। इस प्रोजेक्ट का बजट करीब 50 करोड़ रुपये है। इसके अलावा जीडीए करीब 209 लोगों को उनकी जमीन का मुआवजा देने की प्र्रक्रिया शुरू कर चुका है। विस्थापितों को बसाने के लिए जीडीए को करीब 7 एकड़ जमीन की आवश्यकता होगी। जीडीए के अधिशासी अभियंता और प्रोजेक्ट इंचार्ज आर . पी . श्रीवास्तव का कहना है कि जीडीए ने 2 महीने पहले ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी से करीब 25 करोड़ रुपये की डिमांड की थी। अथॉरिटी ने जीडीए को 10 करोड़ रुपये रिलीज कर दिए हैं। ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी बाकी के 15 करोड़ रुपये बाद में रिलीज करेगी। उन्होंने बताया कि पैसे की कमी के कारण करीब एक महीने पहले इस प्रोजेक्ट पर काम रुक गया था। अब पैसा मिलने के साथ ही मिट्टी की भराई का काम फिर से शुरू हो गया है। श्रीवास्तव का कहना है कि ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने बाकी का पैसा काम की प्रगति रिपोर्ट के आधार पर देने की बात कही है।

20 मिनट में पहुंचेंगे ग्रेनो

इस मिनी एक्सप्रेस – वे के बन जाने के बाद यूपी गेट से गे्रटर नोएडा 20 मिनट में पहंुचने का सपना पूरा हो जाएगा। ग्रेटर नोएडा को जोड़ने वाले इस एक्सप्रेस – वे को सूरजपुर से एनएच -24 के करीब डेढ़ किलोमीटर पहले तक बना दिया गया है। करीब डेढ़ किलोमीटर तक ही इस रोड को बनाने का काम अभी अटका है।

अब तक मिली सिर्फ 2 एकड़ जमीन

प्रोजेक्ट इंचार्ज ने बताया कि जीडीए ने इस प्रोजेक्ट से प्रभावित लोगों के लिए ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी से करीब 7 एकड़ जमीन की डिमांड की थी। जीडीए को अब तक सिर्फ 2 एकड़ जमीन ही उपलब्ध कराई गई है। ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने जीडीए को बताया है कि पांच एकड़ जमीन देने में अभी कुछ समय लगेगा। श्रीवास्तव का कहना है कि फिलहाल प्रोजेक्ट पर काम शुरू कर दिया है जमीन बाद में जीडीए को हैंडओवर होती रहेगी।
http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8279154.cms

Gzb-Gr Noida road work to be resumed

Ayesha Arvind, TNN | May 4, 2011, 06.36am IST

On Tuesday, the Greater Noida Authority released the first cheque worth Rs 10 crore to GDA and also allotted a two-acre plot to begin the construction work, Greater Noida Authority DCEO P C Gupta said.

Earlier, in January this year, the Ghaziabad Development Authority had expressed its inability to complete the link road project citing lack of funds for the same. It had at the time sought payment of Rs 23.5 crore from the Greater Noida Authority claiming that the link road, once complete, would benefit Greater Noida as much as it would benefit Ghaziabad.

The payment sought is part of the package to be delivered to villagers whose land has been acquired for completing the project and for the construction of the remaining 1.5 km of the link road stretch. In all, as many as 38 villagers remain to be paid their due compensation for the land acquired.

The project aims to connect Greater Noida’s sector Zeta to Vijay Nagar in Ghaziabad. The proposed road, 130 metres wide and 22 km long, will start at Zeta and pass through Devla, Khodna, Khurd, Khairpur Gurjar, Etaida and Haibatpur before reaching Vijay Nagar in Ghaziabad.

The project faced several delays after villagers protested against the land acquisition process and refused to allow work until proper compensation was offered. Now, with the issue of compensation being addressed by the authorities, officials claim that the construction work on the remaining stretch will be completed in six months. The link road will also be signal free.

At present, the residents of Greater Noida have to cross Noida and Dadri to reach Ghaziabad. Commuting through the Etaida-Chaproula-Ghaziabad route takes up to two hours.

“The link road will also open new avenues of business between the two cities. Industries that face problems while transporting goods, and students from Ghaziabad who study in Greater Noida will be major beneficiaries of the project,” said an official.

A negotiation had been going on from the past three months between the GDA and Noida Authority over completion of the project. Apart from that, only 38 residents whose land had been acquired for the purpose had been given the compensation amount. The completion of the project was delayed further due to continuous protests by the villagers.

आरएफपी जारी होने में लग सकते हैं 2 महीने
6 May 2011, 0400 hrs IST

प्रमुख संवाददाता ॥ नोएडा

नोएडा से ग्रेटर नोएडा के बोडाकी रेलवे स्टेशन तक करीब 29 किलोमीटर लंबे मेट्रो टै्रक बनाने के लिए आरएफपी बनाने में दो महीने लग सकते हंै। यह बात नोएडा से ग्रेटर नोएडा रूट की प्रस्तावित प्रोजेक्ट की रिव्यू मीटिंग में सामने आई। मीटिंग की अध्यक्षता सीईओ नोएडा व ग्रेटर नोएडा रमा रमण ने की। नोएडा से कालिंदी कुंज को लिंक करने से संबंधित प्रस्ताव पर मई में ही मीटिंग हो सकती है।
Unknown Object
रिव्यू मीटिंग के बाद नोएडा व ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के सीईओ रमा रमण ने बताया कि इस मीटिंग में कंसलटेंट के रूप में आए डीएमआरसी के अधिकारियों ने टेक्निकल, स्पेसिफिकेशन और मैन्युअल काम के लिए करीब दो महीने का समय रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (आरएफपी) के लिए मांगा। रमा रमण ने बताया कि जुलाई में आरएफपी जारी होगा। इसके दो या तीन महीने बिड मांगने व अन्य प्रक्रिया में लगेगा। इसके बाद ही इस टै्रक पर निर्माण की राह खुलेगी। इस मीटिंग में डिप्टी सीईओ सी.बी. सिंह, नोएडा के प्लानिंग डिपार्टमेंट के राजपाल कौशिक, ग्रेटर नोएडा से नीलू सहगल और डीएमआरसी के अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया।

नोएडा से बोडाकी रेलवे स्टेशन तक प्रस्तावित मेट्रो टै्रक के बाद चौथे फेज में नोएडा और ग्रेटर नोएडा बोडाकी स्टेशन से वाया नोएडा एक्सटेंशन होते हुए सेक्टर 62 स्थित मॉडल टाऊन चौकी तक जोड़ने का प्लान है। हाल ही में डीएमआरसी के सीएमडी श्रीधरन ने नोएडा से गाजियाबाद तक मेट्रो को लिंक करने के संकेत दिए हैं। इससे यह तय है कि आने वाले दिनों में अब सेक्टर 32 सिटी सेंटर से सेक्टर 62, इंदिरापुरम व गाजियाबाद को मेट्रो के जरिए जोड़ने की राह भी खुलेगी।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8171169.cms

5-min ride to Noida soon

Ruhi Bhasin, May 2, 2011, 06.03am IST

NEW DELHI: A 9km stretch will be shrunk to a mere 1km. A 30-minute roller-coaster to be cut short to a 5-minute zip ride. Unbelievable but true. Yes, travelling from Okhla to Noida will be a breeze when the Sarita Vihar underpass is finally completed.

Unknown Object

You will not just zoom into Noida, the underpass will also connect Okhla with Ashram and Badarpur and vice-versa . Once operational, it will also decongest Mathura Road and Modi Mill flyover.

But the construction work is taking its toll, choking the Sarita Vihar area and triggering traffic disruptions. This has prompted the Delhi Development Authority (DDA) to adopt the top-down technology instead of the open-cutcover method.

“The top-down technology requires minimal disruption on the ground. Boring is carried out to first construct diaphragm walls. Once concretizing of the wall is complete, the top slab is put in place. Openings are left at regular intervals so that excavation inside the tunnel can be carried out. Then excavation is carried out till the bottom slab is placed. Change in technology was required as we had to dig deeper because of the change in plan of the railways ,” said a DDA official. The Northern Railways is constructing a portion of the underpass.

The New Delhi Municipal Council is also using this technology to construct the service utility corridor in the Middle Circle.

According to the agency, top-down technology is safer and helps cutting down on construction time. The project has missed the August 2010 deadline. It is now likely to be completed by December this year.

DDA decided to go for advanced technology 3 months back. Before this, the opencut-cover technology was being used. This required construction to take place from bottom to top and was causing traffic jams. “Under this technology , the base slab is placed first, then side walls are constructed and the top slab is placed last. Since major excavation work is required, it was holding up traffic,” said an official.

The 1.2km-long underpass will cost Rs 263 crore. “A slip road, bridges, footpaths and cycle tracks will be part of the project,” said the official.

The project was scheduled to start in December 2008, but work started only in September 2009. Presence of sewer and utility lines along the proposed underpass delayed work.

“There were several hightension wires in the area, so the track had to be re-laid . Designs were sent again to the agency (UTTIPEC), which took some time to approve it. After the change in design, the utility lines again put a stop on the work,” said an official.

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2011-05-02/delhi/29495325_1_underpass-slab-dda-official

बॉटनिकल गार्डन से कालिंदी कुंज मेट्रो विस्तार योजना

Update : Thursday, April 28, 2011

नोएडा। दक्षिणी दिल्ली लिंक के लिए नोएडा ने एक कदम और बढ़ा दिया है। इसके लिए प्राधिकरण ने डीएमआरसी को सहमति पत्र भेजते हुए फेस-थ्री में विस्तार की बात कही है। इसके अलावा अगले महीने दोनों विभागों की बैठक सीईओ नोएडा की अध्यक्षता में होगी, जिसके बाद प्राधिकरण बजट जारी करेगा।
बॉटनिकल गार्डन से कालिंदी कुंज के बीच चलने वाली मेट्रो पर प्राधिकरण तेज कार्रवाई करने में जुट गया है। पिछली बोर्ड बैठक में सैद्धांतिक मंजूरी मिलने के बाद इस प्रस्ताव को दिल्ली मेट्रो कॉरपोरेशन के समक्ष रखा गया था। डीएमआरसी ने बजट और सहमति की मांग रखी, जिसके लिए नोएडा के इंफ्रास्ट्रैक्चर विभाग ने बुधवार को पत्र जारी कर दिया। इस संबंध में प्राधिकरण के उप मुख्य कार्यपालक अधिकारी वीरेश्वर सिंह ने बताया कि सहमति पत्र भेजने के साथ ही अगले महीने बैठक का आयोजन किया गया है। इसमें दोनों विभाग के अधिकारी और अभियंता मौजूद रहेंगे। मई के मध्य में होने वाली इस बैठक की अध्यक्षता प्राधिकरण के सीईओ रमा रमण करेंगे। उन्होंने बताया कि नोएडा ने मेट्रो विस्तार का डिजाइन डीएमआरसी से मांगा है। इसमें उपलब्ध जमीन का ब्यौरा लिया जाएगा, जिससे अगर जरूरत पड़ती है तो अन्य भूमि भी अधिग्रहित की जा सकें। इसके अलावा ३.७९ किलोमीटर विस्तार के लिए जो बजट निर्धारित होगा उसे जारी करने का काम भी इसी बैठक के दौरान कर दिया जाएगा।
Unknown Object————–
‘बॉटनिकल गार्डन और कालिंदी कुंज के बीच मेट्रो विस्तार पर नोएडा प्राधिकरण की सहमति के लिए एक सप्ताह पूर्व डीएमआरसी ने रिमाइंडर भेजा था। नोएडा से कंसेल्ट मिलते ही डिजाइन को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया जाएगा। इसके बाद बजट जारी होते ही निर्माण कार्य शुरू होगा। डीएमआरसी ने इस विस्तार को मेट्रो के फेस-थ्री में ही शामिल किया है।’
एके गुप्ता
चीफ प्रोजेक्ट इंचार्ज, डीएमआरसी

http://www.amarujala.com/city/noida/Noida-10538-73.html

NOIDA’s road map for a smoother drive

Vandana Keelor, TNN | Apr 26, 2011, 06.44am IST

The cityscape of Noida is all set to change. With the city being caught in a continuous jam, the Noida Authority, in consultation with its advisory agency, RITES (Rail India Technical and Economic Services) has drawn up a blueprint to steer its residents clear of the chaos.
Unknown Object
The makeover plans include six elevated roads, 10 underpasses and flyovers, besides wider, better and well-engineered roads. While strengthening of roads will be done with IIT Roorkee’s inputs, engineers of the Authority are working out ways and means to upgrade and develop infrastructure. The Authority has also started to remove overhead electric wires and shift them underground along some congested roads. Bridge flanges across the Kalindi Kunj barrage and the Shahdara drain are also to be extended.

Says Mohinder Singh, Noida Authority Chairman, “Our efforts are to provide the city with a futuristic infrastructure that will cater to the rate of growth being witnessed.” He adds, “Currently, while for some of the projects’ technical consultants have been appointed, several projects are awaiting finalization of the Detailed Project Reports (DPR) before implementation.” Estimated to cost over Rs 3,000 crore, once work begins the projects are expected to be completed within a period of 18 to 24 months.

The decision to upgrade the city’s road infrastructure came in the wake of a study conducted in September 2010 by IIT Roorkee engineers. They identified and quantified various types of traffic problems and thereafter recommended a plan of action. They studied and recommended necessary improvements in the existing road network, widening and strengthening of roads, redesigning of cross-sections and construction of flyovers, underpasses and elevated roads. The scope of the study included traffic intensity and volume at 15 prominent locations for a road length of 60 km.

Explains the chief maintenance engineer (CME), Yadav Singh, “The focus is on decongesting the most clogged-up roads of the city. As suggested by our consultants, the construction of the elevated roads, underpasses and flyovers will take place in a phased manner. Elevated corridors will be constructed along the Master Plan road-I, II, III and the DSC road.” Traffic surveys have revealed that these roads see heavy traffic during all times of the day. Moreover, due to lack of space on either side of these roads, they cannot be widened, hence the need for elevated corridors. The elevated corridors will be four-lane roads and provided with left turns or exits. “Besides the underpasses, which are proposed to be built at strategic locations across the city, the widening of the bridges on the Shahdara drain and the Kalindi Kunj barrage will definitely ease traffic movement,” adds the officer.

The Authority has also approved a proposal to build another expressway from Gautam Buddha Nagar to Faridabad. Once completed, the expressway will offer commuters direct connectivity to Faridabad and they will be able to avoid the massive jams seen on the route. The 75-m wide expressway will start from Sector 150, on the outskirts of Noida. A four-lane bridge will also be built on the Yamuna, taking the expressway to Faridabad. The plan has been included in Noida’s Master Plan-2031 by the planning department and the proposal has now been sent to the state government for approval.

Proposed elevated roads:
1. On Master Plan Road-II from Vishwa Bharti Public School to Shopprix Mall in sector 61
2. On Master Plan Road-III from sectors 60, 61 & 71 crossing to NH-24
3. On DSC road from sectors 41, 49 crossing to sectors 82, 110 crossing
4. On Master Plan Road-I from sectors 10, 12, 21, 21A crossing to sectors 12, 22, 56 crossing
5. Road from sectors 19 and 27 up to Spice Mall at the crossing of sectors 21A and 25
6. On Master Plan Road-II extension of Film City flyover up to Atta Chowk underpass

Proposed underpasses:
1. On Master Plan Road-II at the crossing of sectors 21A, 22 and 24, 25A
2. At the crossing of sectors 21, 21A and 25, 25A
3. At the crossing of sectors 36, 37, 38A & 39
4. At the crossing of sectors 25, 25A and 31, 32
5. At Atta Chowk and Max Hospital crossing
6. At the crossing of sectors 94 and 95
7. On Master Plan Road-III at the crossing of sectors 71, 72, 52, 51
8. On Master Plan Road-III at the crossing of sectors 39, 35, 32 & 51
9. On the Noida-Greater Noida Expressway at sectors 94 and 124

Proposed improvements on existing roads:
1. Improvement of service road on T-point of sectors 32, 36 and 39
2. Extension of flanges on bridge across Shahdara drain
3. Extension of flanges on bridge across Kalaindi Kunj barrage

http://timesofindia.indiatimes.com/city/delhi/NOIDAs-road-map-for-a-smoother-drive/articleshow/8086838.cms

यमुना एक्सप्रेस-वे चलते ही दौड़ेगा रीयल एस्टेट
29 Apr 2011, 0400 hrs IST,हेलो दिल्ली

महकार भाटी।।
अथॉरिटी के अनुसार, यमुना एक्सप्रेस-वे जून तक शुरू होने के आसार हैं। इसके आसपास पहले ही रीयल एस्टेट की गतिविधियां तेज हो चुकी हैं, जिनका और बढ़ना तय माना जा रहा है। एक नजर डाल रहे हैं।

ग्रेटर नोएडा से आगरा तक बनाए जा रहे 165 किलोमीटर लंबे यमुना एक्सप्रेस-वे का निर्माण फाइनल स्टेज में पहुंच गया है। इससे यमुना अथॉरिटी के अधिकारियों में उत्साह है। अथॉरिटी के अधिकारियों का कहना है कि जून तक यमुना एक्सप्रेस-वे बनकर तैयार हो जाएगा। तभी इसे चालू भी कर दिया जाएगा। एक्सप्रेस-वे पर ग्रेटर नोएडा से आगरा तक बने सभी इंटरचेंज भी बनकर तैयार हो चुके हैं। गौरतलब है कि इस एक्सप्रेस-वे की शुरुआत का रीयल एस्टेट मार्केट में भी बड़ी उत्सुकता से इंतजार किया जा रहा है। तभी तो इसका कंस्ट्रक्शन शुरू होने के समय से ही इसके आसपास कई रेजिडेंशल प्रॉजेक्ट्स लॉन्च किए जा चुके हैं और यह सिलसिला आज भी जारी है।

एक्सप्रेस-वे की खास बात
अथॉरिटी अधिकारियों के अनुसार यूपी के 5 जिलों गौतमबुद्धनगर, अलीगढ, मथुरा, महामायानगर और आगरा से होकर गुजरने वाले इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण सभी जिलों में एक साथ शुरू किया गया था। इसके चलते हर जिले में एक्सप्रेस-वे का निर्माण पूरा हो गया है। इसके दोनों ओर सेफ्टी ग्रिल भी लगा दी गई हैं। ग्रेटर नोएडा से आगरा तक जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। ऐंबुलेंस भी तैनात की जाएंगी।

तैयार है मास्टर प्लान
वहीं, यमुना अथॉरिटी का मास्टर प्लान 2031 बनकर तैयार हो गया है। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि मास्टर प्लान में जेवर एयरपोर्ट के लिए 36 गांवों की करीब 10 हजार एकड़ जमीन रिजर्व रखी गई है। शहर के सभी सेक्टरों की सड़क 60 मीटर से अधिक चौड़ी रहेगी है। शहर को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए करीब 30 प्रतिशत से अधिक एरिया रिजर्व रखा गया है, जिसमें फलदार व छायादार पेड़ लगाए जाएंगे। पार्क भी बनाए जाएंगे।

बनेंगी कई टाउनशिप
यमुना एक्सप्रेस-वे के किनाने कई बड़ी-बड़ी टाउनशिप बसाई जाएंगी। इनमें 4 यूनिवर्सिटी सहित 10 कॉलेजों को प्लॉट आवंटित कर दिए गए हैं। यहां 12 से अधिक बिल्डरांे को 100, 200 व 150 एकड़ के प्लॉट दिए जाने हैं। ये बिल्डर एक्सप्रेस-वे के किनारे हाईराइज बिल्डिंग बनाएंगे। यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे ही अथॉरिटी एशिया की सबसे बड़ी मेगा रेजिडेंशल टाउनशिप भी बसाने जा रही है। यह मेगा टाउनशिप 4500 एकड़ जगह में बसाई जाएगी। अथॉरिटी सूत्रों का कहना है कि इस टाउनशिप में करीब 20 लाख लोगों का घर का सपना पूरा होगा।

लोकेशन है बेस्ट
मेगा टाउनशिप की लोकेशन यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे पर होगी। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि टाउनशिप में पहुंचने के लिए लोगों को कहीं भी जाने पर रास्ता पूछने की जरूरत नही पड़ेगी। डीएनडी फ्लाईओवर से होते हुए नोएडा -ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर पहुंचने के बाद शफीपुर इंटरचेंज से यमुना एक्सप्रेस-वे पर आना होगा। इसके बाद सीधे मेगा टाउनशिप पहंुच सकते हैं। उधर, हरियाणा-पलवल-कुंडली से सोनीपत तक बनने वाले पैरिफेरल एक्सप्रेस-वे को भी यमुना एक्सप्रेस-वे टच करता हुआ जाएगा। इससे भी सीधे टाउनशिप पहुंचा जा सकता है। यहां आगरा, अलीगढ़, गाजियाबाद, मेरठ ,मुरादाबाद से भी लोग सीधे पहुंच सकते हैं। ग्रेटर नोएडा में बनने वाला रेलवे जंक्शन व ट्रांसपोर्ट हब भी नजदीक होगा। यहां से लोग ट्रेन व बस पकड़कर देश में किसी भी शहर के लिए आसानी से आ जा सकते हैं। टाउनशिप से दिल्ली मेट्रो का भी लिंक होगा। नोएडा सिटी सेंटर से ग्रेटर नोएडा परी चौक तक जाने वाली मेट्रो को यमुना तक भी पहुंचाने की अथॉरिटी की योजना है।

रोजगार बढ़ने से भी आएगा बूम
अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि मेगा रेजिडेंशियल टाउनशिप बसने से हजारों लोगों को रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। यहां बड़े-बड़े मॉल बनाए जाएंगे, जिससे लोग एक ही जगह अपनी जरूरत का सामान खरीद सकें। मॉल बनने से हजारों युवकों को रोजगार मिल सकेगा। टाउनशिप में रहने वाले लोगों को अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा दिलाने के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। प्राइमरी स्कूल से हायर एजुकेशन तक का इंतजाम यहीं होगा। यहां मेडिकल व टेक्निकल कॉलेज भी होंगे। यहां रेस्तरां, पब, बार, पेट्रोल पंप, सीएनजी पंप, गोल्फ, फाइव स्टार होटल, मोटल आदि भी होंगे। इनमें हजारों युवकों को रोजगार मिलेगा। रीयल एस्टेट का नियम है कि जहां जॉब के ज्यादा मौके होते हैं, वहां रीयल एस्टेट तेजी से बढ़ता है। जाहिर है कि यमुना एक्सप्रेस-वे शुरू होने के बाद आसपास के इलाकों में रीयल एस्टेट में काफी बूम दिखाई देगा।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/8109102.cms

मेट्रो के लिए मई में डीएमआरसी-अथॉरिटी की बैठक
28 Apr 2011, 0400 hrs IST

प्रमुख संवाददाता॥ नोएडा

नोएडा अथॉरिटी ने दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) को नैशनल बॉटैनिकल गार्डन से कालिंदी कुंज तक करीब 3.5 किलोमीटर लंबी मेट्रो रेल लाइन को सैद्धांतिक मंजूरी देते हुए चिट्ठी भेजी है। अगले महीने इस प्रोजेक्ट को लेकर डीएमआरसी और नोएडा अथॉरिटी के बीच पहली औपचारिक बैठक होने जा रही है। अथॉरिटी का अनुमान है कि इस प्रोजेक्ट पर 750 करोड़ से ज्यादा रकम खर्च होगी।

अथॉरिटी के इन्फ्रास्ट्रक्चर डिपार्टमेंट के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बोर्ड ने इस प्रोजेक्ट के संबंध में एक प्रस्ताव पारित कर शासन के पास मंजूरी के लिए भेजा था। अगले महीने दिल्ली में शुरू होने जा रहे मेट्रो रेल प्रोजेक्ट फेज-3 में नोएडा से कालिंदी कुंज तक की लाइन को शामिल किया जाना है, इस कारण से सीनियर अफसरों ने आधिकारिक पत्र भेजने का फैसला किया। अथॉरिटी अफसरों ने बताया कि नोएडा से कालिंदी कुंज तक की लाइन नोएडा वासियों के लिए वरदान होगी। इस लाइन से आईजीआई डोमेस्टिक एयरपोर्ट तक सीधे जा सकेंगे। इसके अलावा नोएडा से फरीदाबाद जाने वाले लोग कालकाजी से मेट्रो बदल सकेंगे। गुड़गांव रूट वाली मेट्रो पकड़ने के लिए हौजखास के स्टेशन से चेंज किया जा सकेगा।

सूत्रों ने बताया कि मेट्रो के बोटैनिकल गार्डन से लिंक हो जाने के बाद यह रूट रिंग मेट्रो हो जाएगी। इससे कालकाजी से मयूर विहार, अक्षरधाम और आनंद विहार तक पहुंचना आसान हो जाएगा। अथॉरिटी के सूत्रों ने बताया कि औपचारिक पत्र बुधवार को डीएमआरसी के डायरेक्टर प्रोजेक्ट के दफ्तर में भेज दिया गया है। मई के महीने में कभी भी इस प्रोजेक्ट को लेकर डीएमआरसी और नोएडा अथॉरिटी के अधिकारी डीपीआर और अन्य रूटों पर विचार-विमर्श करेंगे।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8101748.cms

100 एकड़ में ग्रीन बेल्ट विकसित होगी
26 Apr 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स

प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद॥ जीडीए की बोर्ड बैठक सोमवार को हुई। इसमें चालू वित्तीय वर्ष के लिए 1535 करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत हो गया। इसमें 26 प्रस्ताव रखे गए थे। बैठक में दिलशाद गार्डन से मोहन नगर के बीच मेट्रो विस्तार पर चर्चा हुई। इसमें कहा गया कि जीडीए को अभी इसका डीपीआर ( डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट ) नहीं मिली है। रिपोर्ट मिलने के बाद इस पर कार्रवाई की जाएगी।

प्रमुख सचिव आवास ने बताया कि हिंडन पुल से लेकर राजनगर एक्सटेंशन तक एक सौ एकड़ में हरित पट्टी विकसित की जाएगी। किसानों से भूमि लेने के लिए पहले से प्रचलित धारा -4, 6 और 17 आदि का उपयोग नहीं किया जाएगा। अब किसानों से सीधे जमीन ली जा सकेगी। इस पर 500 करोड़ रुपये खर्च करने की बात कही गई। एनएच -24 को पहले छह लेन का करने का प्रस्ताव था। अब उसे आठ लेन का करने का निर्णय किया गया है। इसके लिए एनएचआईए से स्वीकृति मांगी गई है। आठ लेन बनाने में जो खर्च आएगा उसमें नोएडा , पीडब्ल्यूडी , उत्तर प्रदेश आवास विकास परिषद , जीडीए आदि अन्य सभी संबंधित संस्थाएं धन देंगी। एनएच -24 पर अंडरपास भी बनाए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि ट्रैफिक को स्मूद रखने के लिए सीआरआरआई की रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। दिलशाद गार्डन से मोहन नगर तक मेट्रो ट्रेन के विस्तार के बारे में अभी डीपीआर नहीं मिला है। डीपीआर मिलने के बाद ही कोई कार्रवाई की जाएगी। लोनी रोड पर रेलवे फाटक और महाराजपुर के पास रेल लाइन पर आरओबी बनवाया जाएगा। इस मौके पर उन्होंने भूमि पर अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए। पुलिस को राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान छह महीने के लिए जीडीए ने आठ बोलेरो जीप और दो इनोवा किराए पर उपलब्ध कराई थी। बाद में इनका समय बढ़ाया जाता रहा। इस पर जीडीए की ओर से 85 लाख 98 हजार 648 रुपये किराए के रूप में दिए गए। इस साल जीडीए पुलिस को दी गई कारों का किराया के रूप में एक करोड़ सात लाख 48 हजार 310 रुपये देगा। बैठक की अध्यक्षता अपर कैबिनेट सचिव और प्रमुख सचिव आवास रवींद्र सिंह ने की। वह गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष भी हैं। बैठक में जीडीए के वीसी एन . के . चौधरी , सचिव नरेंद्र कुमार और डीएम हृदयेश कुमार समेत कई अधिकारी मौजूद रहे।

तीन सदस्यों ने किया बहिष्कार

गाजियाबाद विकास प्राधिकरण बोर्ड के लिए नगर निगम के चार निर्वाचित पार्षदों में से तीन ने बैठक का बहिष्कार किया। इन पार्षदों के नाम मुकेश गर्ग , बिजेंद्र चौहान और हरि मोहन कौशिक हैं। गर्ग बैठक में आए थे , लेकिन बाद में चले गए। चौहान और कौशिक आए ही नहीं। बीएसपी के पार्षद प्रेम चंद भारती ने बैठक में भाग लिया।

बैठक का बहिष्कार करने वाले पार्षद मुकेश गर्ग ने बताया कि जब बोर्ड बैठक का एजेंडा दिया गया था तब पता लगा कि आगामी वर्ष में विकास पर 15 अरब रुपये खर्च किया जाएगा। बैठक की सूचना मिलने पर 18 अप्रैल को मुकेश गर्ग की ओर से जीडीए उपाध्यक्ष को पत्र लिखा गया था। इसमें एजेंेडे के साथ वर्ष 2008, 2009 की ऑडिट रिपोर्ट , ऑडिट के दौरान लगाई गई आपत्तियां और आपत्तियों के निस्तारण की जानकारी मांगी गई थी। लेकिन ये जानकारियां सोमवार तक नहीं दी गई। इस कारण उन्होंने बैठक में हिस्सा नहीं लिया।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8082534.cms

अब बनेगा नोएडा मेंटिनेंस अथॉरिटी!
18 Apr 2011, 0400 hrs IST

नोएडा स्थापना दिवस विशेष
नोएडा कल आज और कल-पार्ट 3 :

हापुड़ से वाया नोएडा होते हुए फरीदाबाद के बीच होगा सीधा लिंक

नोएडा और ग्रेनो के बीच होगी 50 किलोमीटर लंबी मेट्रो रिंग टै्रक

नोएडा और ग्रेटर नोएडा के साथ- साथ आसपास के शहरों में आने वाला दशक रफ्तार के लिए जाना जाएगा। इन सभी शहरों के बीच ट्रांसपोर्टेशन लिंक के नए रास्ते बनेंगे। इनकी प्लानिंग पर इन दिनों तेजी से काम हो रहा है। नोएडा से फरीदाबाद जाने के लिए यमुना पर 3 नए पुल बनेंगे। नोएडा से ग्रेटर नोएडा के बीच मेट्रो की कनेक्टिविटी बेहतर होगी। नोएडा सेक्टर 32 सिटी सेंटर से शुरू होकर वाया एक्सप्रेस वे से होती हुई परी चौक से बोड़ाकी रेलवे स्टेशन से लिंक होगी मेट्रो। वहीं से यह लाइन सीधे नोएडा एक्सटेंशन से होते हुए सेक्टर 71 के चौराहे पर सेक्टर 62 की तरफ जाने वाली मेट्रो रेल से जुड़ जाएगी। यह रेलवे टै्रक लगभग 50 किलोमीटर के करीब होगा। फिलहाल 29 किलोमीटर लंबे टै्रक पर नोएडा और ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी डीपीआर को फाइनल कर चुकी है। नोएडा शहर के बसने की कहानी से लेकर फ्यूचर की प्लानिंग को खंगाल रहे हैं विनोद शर्मा :
Unknown Object

पांच साल में ज्यादातर चौराहे होंगे सिग्नल फ्री

अगले पांच सालों में नोएडा के ज्यादातर चौराहे सिग्नल होंगे। जब आप सेक्टर 15 के मेट्रो स्टेशन से सेक्टर 62 मॉडल टाउन चौकी की तरफ जाना चाहेंगे तो आपको मास्टर प्लान रोड नंबर एक, मास्टर प्लान रोड नंबर दो और मास्टर प्लान रोड नंबर तीन से सिग्नल फ्री रास्ते मिलेंगे। डीएनडी से सेक्टर 56 के चौराहे तक रजनीगंधा अंडरपास तैयार हो रहा है। स्टेडियम से लेकर सेक्टर 55 तक एलिवेटिड रोड का इस्टीमेट तैयार हो चुका है। अट्टा पीर चौराहे से सेक्टर 25 के अडोब चौराहे तक भी सिग्नल फ्री ट्रैफिक सिस्टम का प्लान बनाया जा रहा है। मास्टर प्लान रोड नंबर टू पर फिल्म सिटी से लेकर फ्लैक्स चौकी तक आप सिग्नल फ्री जा सकेंगे। इसके लिए नोएडा अथॉरिटी विश्वभारती स्कूल के सामने से शॉप्रिक्स मॉल तक एलिवेटिड रोड बनाने की तैयारी कर चुका है। इसके लिए कंसलटेंट की नियुक्ति हो चुकी है। सबसे पहले इसी सड़क पर एलिवेटिड रोड बनाने का काम शुरू होगा। मास्टर प्लान रोड नंबर तीन को सिग्नल फ्री करने के लिए सेक्टर 94, सेक्टर 35 में बस अड्डे के निकट और सेक्टर 71 के चौराहे पर अंडरपास बनाने की प्लानिंग है। इनके लिए कंसलटेंट की नियुक्ति की जा चुकी है। सेक्टर 37 के चौराहे पर अंडरपास और सिंगल लेन फ्लाईओवर के निर्माण पूरा होने का इंतजार किया जा रहा है।

अगले दस साल में यमुना नदी पर बनेंगे तीन पुल

नोएडा अथॉरिटी अगले दस साल में यमुना नदी पर तीन पुलों को बनाने की तैयारी कर रही है। इनमें पहला पुल कालिंदी कुंज के निकट होगा। इसके लिए भी कंसलटेंट की नियुक्ति होगी। दूसरा यमुना का पुल लगभग पांच किलोमीटर आगे सेक्टर 168 के निकट होगा। यहां मेरठ रोड से सीधे छिजारसी होते हुए हिंडन पुश्ते के किनारे – किनारे बन रही एफएनजी रोड यमुना नदी के किनारे मंगरौली – छपरौली गांव के निकट से हरियाणा की तरफ जाएगी। तीसरा पुल कोंडली बादौली के निकट सेक्टर 150 के पास बनाया जा रहा है। नोएडा अथॉरिटी में प्लानिंग डिपार्टमेंट के अधिकारी राजपाल कौशिक के नेतृत्व में अफसरों की एक टीम ने फरीदाबाद के प्रशासनिक व प्लानिंग से जुड़े अफसरों के साथ बातचीत की है। इस पर ठोस काम शुरू होने वाला है। ये तीनों पुल हरियाणा में आगरा नहर के किनारे तैयार हो रही कालिंदी कुंज से बल्लभगढ़ के लिए तैयार हो रही रोड से अलग – अलग जगह लिंक हो जाएंगे। जिस तरह से नोएडा अथॉरिटी ओखला बैराज से यमुना के किनारे होते हुए जेवर तक एक लिंक रोड प्लान कर रहा है। ठीक इसी तरह से हरियाणा सरकार भी हरियाणा की तरफ यमुना नदी के किनारे – किनारे एक समानांतर रोड तैयार करने पर विचार कर रहा है। सेक्टर 150 वाली सड़क का संबंध हापुड़ से सीधे फरीदाबाद और बल्लभगढ़ तक होगा।

एक दशक में मेट्रो का बनेगा अलग रिंग टै्रक

अगले एक दशक में नोएडा और ग्रेटर नोएडा में मेट्रो रेल का अलग गलियारा दिखाई देगा। नोएडा और ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने अभी 29 किलोमीटर लंबे टै्रक का डीपीआर तैयार कराया है। इसमें नोएडा सेक्टर 32 से फेज टू होते हुए सेक्टर 137 के पास एक्सप्रेस वे के किनारे से टै्रक बनाया जाना है। यह मेट्रो टै्रक सीधे बोड़ाकी रेलवे स्टेशन से लिंक होगा ताकि हावड़ा टै्रक से दिल्ली या साउथ दिल्ली की तरफ आने वाले लोग दादरी या गाजियाबाद से आनंद विहार रेलवे स्टेशन जाने की बजाय बोड़ाकी रेलवे स्टेशन से ही मेट्रो में बैठ जाएं। इससे वे सीधे एयरपोर्ट भी पहुंच सकेंगे। इसके बाद एक नया टै्रक बोड़ाकी रेलवे स्टेशन से दूसरी लाइन नोएडा एक्सटेंशन की तरफ जाने वाली 130 मीटर चौड़ी सड़क से होते हुए सेक्टर 71-72 के चौराहे तक आकर सेक्टर 62 वाली मेट्रो रेल टै्रक से ठीक इस तरह जुड़ जाएगी जैसी अब नैशनल बॉटैनिकल गार्डन पर साउथ दिल्ली जाने के लिए मेट्रो रेल का लिंक तैयार होना है।

अब हो सकता है नोएडा मेंटिनेंस अथॉरिटी का गठन

नोएडा में डिवेलपमेंट का काम अपने पीक पर है। नोएडा अथॉरिटी अपने प्लान के अनुसार जमीन का अलॉटमेंट कर चुका है। ऐसे में अथॉरिटी के भारी भरकम स्टाफ के खर्च को ध्यान में रखते हुए आने वाले दिनों में नोएडा मेंटिनेंस अथॉरिटी का गठन किया जा सकता है। इस मुद्दे पर नोएडा अथॉरिटी के सीनियर अफसरों और लखनऊ में बैठे अफसरों के बीच मंथन चल रहा है।

बस अड्डे से लेकर हेलिपोर्ट बनाने का है प्लान

आने वाले टाइम में नोएडा शहर में तीन जगह पर बस अड्डे बनाए जाने हैं। इनमें पहला बस अड्डा मास्टर प्लान रोड नंबर तीन पर सेक्टर 35 में बन रहा है। दूसरा बस अड्डा एफएनजी पर इलाहाबास गांव के निकट और तीसरा बस अड्डा सेक्टर 150 के निकट होगा। इसके साथ ही सेक्टर 148 में हेलिपोर्ट बनाने का प्लान है। फ्यूचर में नोएडा से गुड़गांव या आसपास के शहरों में कॉरपोरेट को जाने के लिए हेलिकॉप्टर सेवाएं इसी हेलिपोर्ट से मिलेंग ी।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8013488.cms

Draft masterplan finalised for Yamuna Expressway development

Pragya Kaushika,Pragya Kaushika

Posted: Apr 15, 2011 at 0352 hrs IST

Greater Noida First phase will develop area up to Jevar in Gautam Budh Nagar; plan to be put up for approval next month

The Yamuna Expressway Industrial Development Authority (YEIDA), responsible for charting the development of the region around the Yamuna Expressway that will connect Greater Noida with Agra, has finalised a draft phase-I masterplan for the project, paving the way for major expansion.

The region is emerging as a potential destination for real estate investments, with plans for residential, industrial, institutional and commercial areas, as well as green belts and parks, recreational greens, a proposed airport and an aviation hub. According to a senior YEIDA official, most of the land that falls under the Yamuna Authority has already been registered and acquired by investors. A large part of the revenue generated by registration comes from residential areas under the authority, the official added.

According to the masterplan, the authority will develop the area up to Jevar in Gautam Budh Nagar in phase-I, which would include 584 sq km of Gautam Budh Nagar and Bulandshahr. The masterplan will be put before the board of directors for approval in May. In phase II, the masterplan will cover the area till Agra.

For residential sectors, the connecting roads will be 60-m wide, while in Greater Noida, the road’s width will be 24 m. The roads connecting YEIDA sectors with Greater Noida and Noida will be 130 metre wide, officials said. “We have taken into consideration that roads within the residential sectors should not be less than 12 metres wide. In Greater Noida, the minimum width of the road is 9 metres,” informed a senior official. To connect the sectors with adjoining regions such as Khurja of Bulandshahr and Palwal of Haryana, the authority has planned a 120-m wide road.

According to officials, approximately 334 villages of Gautam Budh Nagar, Bulandshahr, Aligarh, Mahamaya Nagar (Hatras), Mathura and Agra are notified under the YEIDA.

The Yamuna Expressway lies between vital traffic corridors such as National Highway-91, which connects Delhi with Kanpur. “The Yamuna Expressway will be the lifeline in the regions adjoining it. The area will be developed as mega-cities with modern amenities,” stated the official.

The masterplan for phase-I also plans to connect the region with other regions through other expressways like the Eastern Peripheral Expressway and the Ganga Expressway. A 130-m wide railroad corridor connecting it with Khurja in Bulandshahr and Palwal in Haryana has been planned. The masterplan also proposes a new expressway connecting it with Khurja and Palwal.

An area of 10,000 hectare has been notified for proposed the airport and aviation hub. The plan also envisages 25 residential sectors for the region, all of which have been earmarked in the area near Greater Noida. “After Greater Noida gets filled, the population will migrate to the YEIDA’s residential units. After development of Greater Noida, the next sought after region will be the Yamuna Expressway sectors,” added Mohinder Singh, chairman of YEIDA.

The authority has allocated more than 20 sectors for commercial development. “Major commercial establishments have been planned in sector-14 A, 5, 12 D and 4 A. A Sports city has been planned in sector 25, whereas an inter-state bus terminus and a transport nagar have been planned in sector-23 C and 23 D,” said the official.

Five roads to link Greater Noida with Dehradun

The Greater Noida Development Authority has planned five roads connecting the city to towns like Hapur, Bulandshahr, Haridwar and Muzaffarnagar and Dehradun.

Under masterplan 2031, the Authority plans to connect Greater Noida to Dehradun via Upper Ganga Canal Expressway (UGCE), which has been approved by the state government.

According to officials, there is no direct route between Greater Noida to Dehradun, thus 147.8-km long Upper Ganga Canal was proposed. The eight-lane Expressway will provide connection to Kota Sonata, Hapur, Meerut-Dehradun Highway in Purkazi.

The first link road will be an extension of the 105-metre wide road, which will be constructed from Pari Chowk in Greater Noida to Boraki railway station. The Authority has added 33 kilometres to connect this road to Kota Sonata village in Bulandshahr. This extension will then be stretched up till the UGCE.

The second link is planned on the under-construction road between Saini village in Noida Extension, Greater Noida Phase-2 in Dadri and Badalpur. The width of the road would be 60 metres. A 14-km extension of the road would connect the city to Hapur, and the UGCE.

“Precaution has been taken to ensure the roads not less than 60 metres in width. Unlike other towns that are facing traffic problems, we will make the roads viable for another 50 years,” said Leenu Sehgal, GM (Planning).

The third link road would go through Maycha village, Ecotech Industrial Area, Dadri up to Kota Sonata and the UGCE. This road, too, will be 60-metre wide. The fourth link will be on Ecotech-2, Kasna village to Phase-II Dadri to Kota Sonata. The fifth link will be on the route of Tilapata Railway Container Depot, Eastern Peripheral Highway, Jarcha to Expressway.

“All five planned linkages would pass through Dadri railway line in Phase-2 and GT Road,” said P C Gupta, DCEO, Greater Noida Authority.

http://www.indianexpress.com/news/five-roads-to-link-greater-noida-with-dehradun/771594/0

यमुना एक्सप्रेस-वे के आगे सब होंगे बौने

Posted by MKB on March 20th, 2011

ग्रेटर नोएडा अगले 15-20 सालों में बड़े शहरों के मामले में आपको अपना सामान्य ज्ञान सुधारना पड़ेगा। देश के चार सबसे बड़े शहर कोलकाता, दिल्ली, चेन्नई, बंगलौर और मुंबई तब तक काफी पीछे छूट चुकेंगे। क्षेत्रफल के लिहाज से यमुना एक्सप्रेस-वे को सबसे बड़ा शहर बनाने की तैयारियां परवान चढ़ रही हैं। न सिर्फ आकार, बल्कि सुविधाओं और योजनाओं के लिहाज से भी यमुना एक्सप्रेस वे देश के पांच सबसे बड़े महानगरों से बहुत आगे होगा। यमुना एक्सप्रेस वे शहर के मास्टर प्लान को अंतिम रूप देने में जुटा ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण शहर को देश के कई हिस्सों से सीधे जोड़ने पर सबसे ज्यादा जोर दे रहा है। नोएडा व ग्रेटर नोएडा शहर में जो कमियां रह गई, उन्हें यहां शुरुआती दौर में दूर किया जा रहा है। दो चरणों में शहर का विकास होगा और पहले चरण का मास्टर प्लान दो माह के अंदर तैयार हो जाएगा। छह माह बाद दूसरे चरण का मास्टर प्लान तैयार होगा।

Unknown Object

2031 तक यह शहर हकीकत होगा। यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे छह जिलों के 1187 गांवों को मिलाकर शहर बसाया जा रहा है। इस प्रस्तावित शहर का क्षेत्रफल 2,689 वर्ग किमी है। शहर की सबसे बड़ी खासियत कनेक्टिविटी होगी। चारों मेट्रोपोलिटनशहर सदियों पुराने हैं। बेहतर कनेक्टिविटी में सदियों लग गए। मगर यमुना शहर की नींव रखने के साथ ही अन्य शहरों से जोड़ने की योजना तैयार कर ली गई। राजधानी दिल्ली से सीधे जोड़ने के लिए ग्रेटर नोएडा से आगरा तक 165 किमी लंबा एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य चल रहा है। ग्रेटर नोएडा से बलिया तक गंगा एक्सप्रेस-वे। हरिद्वार से ग्रेनो तक अपर गंगा कैनाल एक्सप्रेस। दिल्ली व एनसीआर को जोड़ने के लिए इस्टर्न पैरीफेरल हाइवे।

दिल्ली मुंबई इंडस्ट्रीयल कॉरिडोर के बराबर 1483 किमी लंबा रोड प्रस्तावित है। इससे यह शहर गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश व हरियाणा से सीधे जुड़ जाएगा। शहर के बीचों बीच 130 मीटर चौड़ी सड़क तो चारों ओर 120 मीटर चौड़ा रिंग रोड होगी। अंदर की कोई भी सड़क 100 मीटर से कम नहीं होगी। यमुना एक्सप्रेस-वे के बराबर मेट्रो भी प्रस्तावित है। जेवर के पास दस हजार हेक्टेयर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट व एविएशन हब प्रस्तावित है। एयरपोर्ट की योजना परवान चढ़ी तो शहर अंतरराष्ट्रीय हवाई मार्ग से भी जुड़ जाएगा। भारत के चार प्रमुख शहरों में दिल्ली का 1438 वर्ग किमी, कलकत्ता का 1480 वर्ग किमी, चेन्नई का 176 वर्ग किमी और मुंबई का 440 वर्ग किमी क्षेत्रफल है। [Jagran]

http://news.bspindia.org/hindi/2011/03/%E0%A4%AF%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%A8%E0%A4%BE-%E0%A4%8F%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%B8-%E0%A4%B5%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%86%E0%A4%97%E0%A5%87/

‘Better connectivity between Noida-Delhi-Haryana in next 5yrs”

PTI | 01:04 AM,Apr 01,2011

Noida, Mar 31 (PTI) There will be better connectivity between Noida, Delhi and Haryana in the next five years as the BSP government in Uttar Pradesh plans to build five bridges over Yamuna river, Surinder Singh Nagar, MP from Gautam Budha Nagar, said here today. The ruling BSP government has decided to put Noida and Greater Noida on fast track of development, he claimed. “In the next five years, Noida will have five bridges on Yamuna river in Noida and Greater Noida area at a distance of 6 to 7 kilometers each. These will provide better connectivity with Delhi and Haryana,” Nagar said. “Further, the Faridabad-Noida-Ghaziabad expressway is under construction. We are contacting Haryana government for construction of bridges on Yamuna so that they can incorporate further road connectivity in their area to link to NH 2.

Unknown Object

Then there will be smooth connectivity between NH 2 and NH 24 via Noida,” he said, speaking at a BSP workers training camp held here. Sharvan Kumar Sharma, a retired IAS officer who was earlier District Magistrate, Gautam Budha Nagar, and then Commissioner, Meerut, said: “From Kalindi Kunj to NH 24, several underpasses have been planned beside elevated roads.Residents of sector 62 will get smooth flow of traffic through elevated roads and underpasses.” PTI CORR

http://ibnlive.in.com/generalnewsfeed/news/better-connectivity-between-noidadelhiharyana-in-next-5yrs/632332.html

Noida to get direct link to south Delhi

Hindustan Times
Noida, March 29, 2011

Decks have been cleared for a direct Metro link between Noida and Sarita Vihar. On Tuesday, the Noida Authority board gave its formal sanction to a 3.76-km new Metro route between Noida’s Botanical Garden and Kalindi Kunj near Sarita Vihar. “This is part of our plans to have greater connectivity wi

th adjoining areas. The DMRC’s detailed project report (DPR) has put the project’s total cost at Rs 376 crore. The cost will be borne by the civic agency,” said Noida Authority chairman Mohinder Singh.

This line will be part of the DMRC’s larger plan to link Jahangirpuri and Kalindi Kunj. Noida Authority and DMRC officials will sit together to decide on the alignments. Sources said that this link will be quite viable commercially for the DMRC.

Once the line is operational, Noida will have a direct link with South Delhi areas such as Kalkaji, Malviya Nagar and Green Park and Vasant Kunj. As of now, passengers have to take the Noida-Dwarka route and get down at Rajiv Chowk station to change lines.

The state government has already approved the plan in principal. Once the line is operational, it will automatically be connected to the existing Dwarka-Noida and the proposed Noida-Greater Noida routes.

It will be a part of DMRC’s Phase-III expansion plans, which will now cover 105km, instead of the proposed 70km earlier to enter areas like Faridabad and Noida.

“We need to carry out a feasibility study. The population in Sarita Vihar may be an issue. We are already widening Kalindi Kunj bridge over the Yamuna from four lanes to eight,” Noida Authority’s senior town planner Rajpal Kaushik said.

Greater Noida link
Tenders for extending the Metro line from Noida to Greater Noida will be floated next month. The entire cost of the new line, tentatively billed at Rs 5,000 crore, will be borne by the executor.

The proposed route will start from Noida’s City Centre-sector 32 station and end at Badoki in Greater Noida. This route will have 22 stations, 13 of which will be in Noida.

Sector 62 link
After the Greater Noida project is over, the focus will shift to connecting the Noida’s sector 32 station to sector 62, touching NH-24.

The 6-km route will cater to the Sai Temple, Hoshiyarpur, Greater Noida Extension Marg, Sarfabad, NH-24 and sectors 32, 51 and 60 among others.

http://www.hindustantimes.com/Noida-to-get-direct-link-to-south-Delhi/Article1-679129.aspx

: http://economictimes.indiatimes.com/articleshow/7174603.cms?prtpage=1

Also see below  related news in Hindi about 4 more bridges across Yamuna river- one parallel to existing Kalindi Kunj and another on FNG express that would ease traffic between Dadri-Faridabad

noida-faridabad-travelling-made-easier-FNG-EXPRESS–KalindiKunj Bridge

बॉटैनिकल गार्डन-कालिंदी कुंज टैक का बजट मंजूर
30 Mar 2011, 0400 hrs IST

प्रमुख संवाददाता॥ नोएडा

नोएडा अथॉरिटी की बोर्ड बैठक में मंगलवार को नोएडा सिटी को दक्षिण दिल्ली के कालिंदी कुंज तक जोड़ने वाली नई मेट्रो लेन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई। इस मेट्रो रूट की लंबाई 3.76 किलोमीटर होगी। इस पर 786 करोड़ खर्च का अनुमान है। नोएडा अथॉरिटी इस प्रोजेक्ट पर आने वाले खर्च को वहन करेगी। इसके पारित होने के बाद अब नोएडा के लोगों को साउथ दिल्ली के अलावा फरीदाबाद या गुड़गांव जाने वाली मेट्रो में बैठने के लिए राजीव चौक जाने की जरूरत नहीं होगी। बॉटैनिकल गार्डन स्टेशन के पास यह लेन नोएडा वाली मेट्रो लेन में जुड़ जाएगी। Unknown Objectअथॉरिटी की बोर्ड बैठक के बाद चेयरमैन मोहिंदर सिंह और सीईओ रमा रमण ने यह जानकारी दी। कालिंदी कुंज से लेकर दनकौर तक यमुना नदी पर कुल पांच लिंक होंगे जो नोएडा , ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस – वे को मथुरा रोड से लिंक करेंगे। उन्होंने बताया कि नोएडा की पब्लिक के लिए मेट्रो लेन की दूसरी राह खोलना और 2011-12 के बजट प्रस्ताव को मंजूरी देना अहम मुद्दे थे। बोर्ड से मंजूरी मिलने के बाद प्रस्ताव को डीएमआरसी के पास भेजा जाएगा। इसके बाद डीएमआरसी और नोएडा अथॉरिटी के अफसर बैठकर रूट फाइनल करेंगे। इसमें कितने स्टेशन होंगे यह तय होना बाकी है। इस टै्रक के तैयार होने के बाद यह न केवल फरीदाबाद और गुड़गांव जाने वाली मेट्रो रेल लाइन को जोड़ेगा , बल्कि मथुरा रोड और जयपुर रोड से भी कनेक्ट होगा। इसके बाद मेट्रो रेल की एक ऐसी रिंग होगी , जो जनकपुरी से शुरू होकर नोएडा होते हुए जनकपुरी तक जाएगी।

ग्रेनो में होगी और अधिक हरियाली

#- बजट बढ़कर हुआ 5 हजार 780 करोड़

– उद्यान विभाग का बजट बढ़ा तीन गुना ,

– अथॉरिटी जीबीयू पर खर्च करेगी 332 करोड़ #

प्रमुख संवाददाता।। ग्रेटर नोएडा

ग्रेटर नोएडा की बोर्ड बैठक में अथॉरिटी ने अपना बजट बढ़ाकर 5 हजार 780 करोड़ कर दिया है। इस बजट में से अथॉरिटी जमीन अधिग्रहण , ग्रामीण विकास , शहर को और हरा – भरा बनाने के अलावा इंटरनल डिवेलपमेंट और अर्बन सर्विसेज और 332 करोड़ रुपये जीबीयू के लिए भी रखा है। बैठक में यह भी फैसला लिया गया कि शहर में गंगा वॉटर लाने के लिए जल निगम से कार्य कराया जाएगा। इसके लिए बाद में एमओयू साइन किया जाएगा। बोर्ड ने अथॉरिटी की महत्वपूर्ण स्कीम स्पोर्ट्स सिटी और फार्म हाउस स्कीम को भी हरी झंडी दे दी है। इसके अलावा अथॉरिटी ने 765 करोड़ का स्पेशल बजट रखा है। इसमें अथॉरिटी 350 करोड़ अपने दफ्तर के निर्माण पर खर्च करेगी। बोर्ड बैठक की जानकारी देते हुए ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के डीसीईओ पी . सी . गुप्ता ने कहा कि बजट में शहर को हरा – भरा बनाने पर जोर दिया गया है। हार्टिकल्चर का बजट बढ़ाकर 120 करोड़ रुपये कर दिया गया है। ग्रामीण विकास का बजट भी बढ़ाकर 240 करोड़ रुपये कर दिया गया है। वहीं अर्बन सर्विसेज का बजट बढ़ाकर 108 करोड़ कर दिया गया है। गुप्ता ने बताया कि अथॉरिटी की बोर्ड की बैठक में यह फैसला किया गया कि ग्रेटर नोएडा से फेज -2 से जोड़ने के लिए 6 बड़ी रोड का निर्माण अथॉरिटी कराएगी , ताकि ग्रेटर नोएडा फेज -2 का विकास किया जा सके।

यमुना अथॉरिटी भूमि अधिग्रहण पर सबसे ज्यादा खर्च

#- बजट बढ़कर हुआ 11 हजार 37 करोड़

– सेक्टर -18 व 20 का विकास करेगा जल निगम

-21 हजार अवंटियांे को 2013 में देगी पजेशन #

एक संवाददाता।। ग्रेटर नोएडा

यमुना अथॉरिटी का बजट इस बार 11037 करोड़ रखा गया है। बजट के मुताबिक , अथॉरिटी 9648 करोड़ रुपये भूमि अधिग्रहण पर खर्च करेगी। इसके अलावा सेक्टरों को विकसित करने पर 444 करोड़ खर्च होंगे। अथॉरिटी 7919 करोड़ रुपये पॉपर्टी बेचकर कमाएगी। इसके अलावा 158 करोड़ लीज रेंट , ब्याज और एफडी से कमाएगी। अथॉरिटी इस बार भी 2978 करोड़ का लोन बैंक से लेगी। अथॉरिटी ग्रामीण विकास पर 50 करोड़ खर्च करेगी अथॉरिटी को 850 करोड़ लोन के ब्याज पर खर्च केगी। बोर्ड की बैठक में फैसला लिया गया कि अथॉरिटी सेक्टर -18 और 20 का विकास एक साल में करा देगी। दोनों सेक्टरों का इंटरनल डिवलेपमेंट जल निगम करेगा। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि 21 हजार आवंटियों को 2013 में पजेशन देना है। बोर्ड बैठक की जानकारी देते हुए यमुना अथॉरिटी के डीसीईओ आर . के . सिंह ने बताया डीसीईओ को 2 करोड़ रुपये खर्च करने के वित्तीय अधिकार मिल गए हैं। नोएडा अथॉरिटी से रिटायर हुए मैनेजर फाइनैंस लाजपत राय की नियुक्ति एक साल के लिए यमुना अथॉरिटी में करने जाने पर भी बोर्ड ने अपनी मुहर लगा दी है। उन्होंने बताया कि यमुना एरिया के सेक्टर -17 ए में बिजली ग्रेटर नोएडा के घरबरा सबस्टेशन से सप्लाई किए जाने के लिए प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7820934.cms

डिवेलपमेंट पर खर्च होंगे 2 हजार करोड़
30 Mar 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स

प्रमुख संवाददाता
नोएडा॥ नोएडा अथॉरिटी की बोर्ड बैठक में मंगलवार को वर्ष 2011-12 के लिए 5076 करोड़ का बजट पेश किया गया। चेयरमैन मोहिंदर सिंह ने बताया कि इस बजट में 4997 करोड़ की आय का अनुमान लगाया गया है। पिछले साल के बजट में 31 मार्च 2011 तक 5120 करोड़ की आय का अनुमान था, जो पुनरीक्षित बजट में घटकर केवल 3797 करोड़ तक हो पाई।
Unknown Object
चेयरमैन ने बताया कि वर्ष 2010-11 में डिवेलपमेंट पर 760 करोड़ के खर्च का प्रावधान किया गया था। वास्तविक रूप में यह खर्च 1586 करोड़ के करीब है। यह 300 पर्सेंट ज्यादा है। वर्ष 2011-12 में डिवेलपमेंट और इन्फ्रास्ट्रक्चर पर 2 हजार करोड़ का प्रावधान किया गया है। ग्राम विकास के लिए 147 करोड़ का प्रावधान किया गया है। पिछले साल बजट में 90 करोड़ खर्च होने का अनुमान था मगर 82 करोड़ रुपये ही खर्च हो पाए। मोहिंदर सिंह ने बताया कि अथॉरिटी की आमदनी आवासीय भूखंड, आवासीय भवन, इंडस्ट्रियल प्लॉट, इंस्टिट्यूशनल और कमर्शल प्लॉट से होती है। वर्ष 2011-12 के बजट में आवासीय भूखंड से 1384 करोड़, आवासीय भवन से 72 करोड़, इंडस्ट्रियल से 173 करोड़, इंस्टिट्यूशनल से 294 करोड़ और कमर्शल से 1707 करोड़ की आमदनी का अनुमान लगाया गया है।

मास्टर प्लान 2031 पारित
मास्टर प्लान 2031 में आंशिक संशोधन के बाद इसे पारित कर दिया गया। अथॉरिटी ने इस प्लान 2031 में एक नई रोड हरियाणा के लिए निकाली है। यह सेक्टर-151 से सीधे फरीदाबाद की तरफ जाएगी। इस सड़क के बन जाने के बाद नोएडा से फरीदाबाद की तरफ जाने वाले टै्रफिक के लिए दो रास्ते मिल जाएंगे। पहला रास्ता एफएनजी के साथ कनेक्ट होगा। दूसरा यह नई लेन बल्लभगढ़ की तरफ जा रही हाई टेंशन बिजली लाइन के साथ-साथ निकाली गई है। यह नोएडा एक्सप्रेस वे के टर्निंग पॉइंट से शुरू होगी। इसके बन जाने पर नोएडा और ग्रेटर नोएडा से फरीदाबाद के आसपास के इलाकों में पहुंचना आसान हो जाएगा।

मर्जर की सुविधा
नोएडा अथॉरिटी ने एक प्लॉट के निकट सटे किसी भी ऐसी कंपनी के दूसरे प्लॉट को मर्जर की अनुमति दे दी है , जो पहले वाली कंपनी की सहायक हो। बशर्ते ऐसी कंपनी की इक्विटी शेयर होल्डिंग में 90 पर्सेंट से ज्यादा की भागीदारी हो।

अथॉरिटी ने कॉमन फैसिलिटी के अलावा बाकी सभी तरह की सुविधाओं के मामले में ग्रुप हाउसिंग सुविधाएं देने वाले डिवेलपर को बैंक या अन्य जरूरी क्लब , कैफेटेरिया जैसी सुविधा को आउटसोर्स करने की इजाजत दे दी है। इनके साथ ही पानी , बिजली , फायर स्टेशन और पार्किंग जैसे कॉमन फैसिलिटी पर बिल्डरों या आरडब्ल्यूए को जिम्मेदारी तय की है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7821552.cms

ग्रेनो टु ग्रेनो एक्सटेंशन बनेंगी 6 लिंक रोड
31 Mar 2011, 0400 hrs IST

एकसंवाददाता ॥ग्रेटरनोएडा

ग्रेटरनोएडा सेग्रेटर नोएडाएक्सटेंशन केलिए 6 लिंक रोडबनाई जाएंगी।इनमें से एकरोड सीधेहापुड़ औरदूसरीदेहरादूनजाएगी। बाकीकी 4 सड़केंजीटी रोड औरईस्टर्नपेरिफेरल कोटच करेंगी।सड़कें बनानेके लिए ग्रेनोअथॉरिटीबोर्ड बैठकमें मंजूरीमिल गई है।गे्रटर नोएडाअथॉरिटी केडीसीईओ पी. सी.गुप्ता केअनुसारअथॉरिटीग्रेटर नोएडाएक्सटेंशन कातेजी से विकासकरना चाहतीहै। उन्होंनेकहा किएक्सटेंशनएरिया मेंआवासीय, इंडस्ट्रियलऔरइंस्टिट्यूशनसेक्टर बसाएजाएंगे।ग्रेटर नोएडासे एक्सटेंशनएरिया मेंआवाजाही मेंलोगों कोदिक्कत न होइसके लिएअथॉरिटी 6 लिंकरोड बनाएगी।उन्होंनेबताया कि लिंकरोड बनाने केलिए अथॉरिटीकी मंगलवार कोहुई बोर्डबैठक मंेमंजूरी मिल गईहै।
Unknown Object
अथॉरिटी केप्लानिंगविभाग नेसड़कों कामास्टरप्लानतैयार कर लियाहै और 2 रोड परनिर्माणकार्य भी शुरूकर दिया है।शेष 4 सड़कोंका सर्वे पूरालिया गया है।गुप्ता नेबताया कि पहलीलिंक रोडग्रेटर नोएडा 130 एक्सप्रेस-वेसे टच करते हुएसेनी, मारीपतहोते हुएअच्छेजा, जीटीरोड, बादलपुरसे आगेईस्टर्नपेरिफेरलएक्सप्रेस-वेपर मिल जाएगी।यह रोड 14 किलोमीटरलंबी और 60 मीटरचौड़ी होगी।इसका करीब 50 प्रतिशतनिर्माण पूराहो गया है।मारीपत रेलवेस्टेशन के पासओवरब्रिज औरजीटी रोड परफ्लाईओवरबनाया जाएगा।दूसरी लिंकरोड दादरीअंतरराष्ट्रीयकंटेनर डिपोके पास से 4.8 किलोमीटरलंबी और 60 मीटरचौड़ी बनाईजाएगी। तीसरीलिंक रोडअल्फा परी चौकसे अल्फाकमर्शल बेल्टके सामने सेहोते हुए कोटासनोटा तक 15 किलोमीटरलंबी होगी।गुप्ता नेबताया कि इसेकोटा सनोटा केपास अपर गंगाकनाल से सीधेदेहरादून केलिएनिर्माणधीनएक्सप्रेस-वेसे जोड़ दियाजाएगा। इसकेबन जाने सेग्रेटर नोएडासे लोग सीधेदेहरादून जासकेंगे। चौथीलिंक रोडमायचा गांव केपास से बनेगी, जो 33 किलोमीटरलंबी होगी।इसे हापुड़ तकबनाया जाएगा।पांचवीं लिंकरोड 13.3 किलोमीटरलंबी होगी।इसे ग्रेटरनोएडाइकोटेक-12 सेग्रेटर नोएडाएक्सटेंशन तकबनाया जाएगा।छठी लिंक रोडअजायबपुर सेजीटी रोड होतेहुए अपर गंगाकनाल तकजाएगी। ये सभीलिंक रोड अगले 6 महीने मेंबनकर तैयार होजाएंगी। इनकेबन जाने सेग्रेटर नोएडाऔर ग्रेटरनोएडाएक्सटेंशनसहित हापुड़, देहरादूनसमेत कई शहरोंकी दूरियां घटजाएंगी।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7826894.cms

10 हजार एकड़ में बनेगा जेवर एयरपोर्ट
31 Mar 2011, 0400 hrs IST

एएक संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा

यमुना अथॉरिटी का मास्टरप्लान 2031 बनकर तैयार हो गया है। अथॉरिटी के अफसरों का कहना है कि मास्टरप्लान पर लोगों से आपत्तियां मांगी गई थीं, लेकिन एक भी आपत्ति नहीं आई। प्लान को मंजूरी के लिए शासन के पास भी भेज दिया गया है।

अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि मास्टर प्लान में जेवर एयरपोर्ट के लिए करीब 36 गांवों की 10 हजार एकड़ जमीन रिजर्व रखी गई है। सभी सेक्टरों की रोड 60 मीटर से अधिक चौड़ी रखी गई है। शहर को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए करीब 30 प्रतिशत से अधिक एरिया रिजर्व रखा गया है। इसमें फल वाले और छायादार पेड़ लगाए जाएंगे। यहां रहने वाले लोगों के लिए पार्क बनाए जाएंगे।

अथॉरिटी अफसरों ने बताया कि मास्टरप्लान में लोग अब कौन सा सेक्टर कहां है यह सब जान सकेंगे। गौतमबुद्धनगर और ग्रेटर नोएडा से लेकर आगरा तक पड़ने वाले जिले बुलंदशहर, अलीगढ़, महामायानगर, हाथरस, मथुरा एरिया में यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे कई बड़ी टाउनशिप बसाई जाएगी। यहां 4500 एकड़ एरिया में एशिया की सबसे बड़ी टाउनशिप समेत 4 यूनिवर्सिटी और 10 कॉलेजों को प्लॉट आवंटित किए गए हैं। इनके अलावा यहां एक दर्जन से अधिक बिल्डरांे को 100, 150 और 200 एकड़ के प्लॉट आवंटित किए गए हैं। अफसरों का कहना है कि लोग मास्टरप्लान के जरिए किसी सेक्टर के प्लॉट और लोकेशन की जानकारी घर बैठे जान जाएंगे। इसमें सेक्टर और प्लॉट्स की पूरी जानकारी दी गई है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7827616.cms

मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए डीएमआरसी ने दिया प्रेजेंटेशन
29 Mar 2011, 0400 hrs IST

29 March 2011

एक संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा :

ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो लाने के लिए ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने प्रक्रिया तेज कर दी है। डीएमआरसी की टीम ने सोमवार को अथॉरिटी ऑफिस में मेट्रो का प्रेजेंटेशन दिया। इस दौरान अथॉरिटी के प्लानिंग विभाग के अफसर मौजूद थे। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि मेट्रो का काम शुरू करने के लिए अप्रैल में टेंडर जारी कर दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि नोएडा से ग्रेटर नोएडा नॉलेज पार्क- 5 तक मेटो ले जाने के लिए पीपी मॉडल अपनाया जाएगा।
Unknown Object
मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए जल्द टेंडर मांगे जाएंगे। जो एजेंसी मेट्रो का काम पूरा करेगी उसे कमर्शल यूज के लिए मेट्रो के पास ही अथॉरिटी जमीन उपलब्ध कराएंगी। नोएडा से लेकर ग्रेटर नोएडा नॉलेज पार्क-5 तक कुल 22 रूट होंगे। इसमें मेट्रो के 13 स्टेशन नोएडा सिटी सेंटर से लेकर सेक्टर 82 एक्सप्रेस-वे तक होगे बाकी 9 स्टेशन ग्रेटर नोएडा में नॉलेज पार्क-4 एक्सप्रेस-वे, परी चौक के अलावा अल्फा कमर्शल बेल्ट, हेरिटेज क्लब, विप्रो कंपनी के पास नॉलेज पार्क-5 में हांेगे। अथॉरिटी की योजना मेट्रो को जेवर व वापस नोएडा 130 मीटर एक्सप्रेस-वे के साथ-साथ ले जाने की है। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि इस प्रोजेक्ट पर करीब पांच हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे। मेट्रो लाने वाली कंपनी को ही मेट्रो का किराया वसूलने का अधिकार दिया जाएगा।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7811664.cms

5 March 2011

There are more than 10,000 flats in sector 62 and it has a population of more than 50,000
Parmindar Singh

Noida, March 2
Unable to get a positive response from the Noida Authority, the Federation of Sector 62 has today written to Uttar Pradesh Chief Minister, seeking her intervention for Metro Rail and a community centre.

Federation president SM Singh, stated in the letter, “There are more than 10,000 flats in sector 62 and it has a population of more than 50,000. Besides residential apartments, the sector has hundreds of institutions. Across the NH-24 highway is Indirapuram where more than 50,000 flats have been built up. If Metro is extended till sector 62, it will benefit Indirapuram residents too.”

Unknown Object

;As per the earlier schedule, Metro from sector 32 was to be extended up to sector 62. Now the officials have changed priority and said that this line will be developed after the completion of Greater Noida Metro project,” stated Singh.

;The Greater Noida Metro project involves a cost of over Rs 5,000 crore. The Delhi Metro Rail Corporation too had found the project unviable in view of low population of Greater Noida.

Even if the project is allotted to private developer, he too will develop it in phases which may take a decade,” stated Singh.

“It is to be noted that if Metro of Sector 32 is extended up to sector 62 which is just 5 km from City Centre, it will ease the chaotic traffic conditions of Noida,” Singh stated.

The federation has also made a request for a community centre in sector 62.

http://www.tribuneindia.com/2011/20110303/delhi.htm#4

4 March 2011

New e-way proposed from Noida to Faridabad

Chaitanya Marpakwar, TNN, Mar 4, 2011, 12.21am IST

NOIDA: In what will reduce distance and save travel time for thousands of commuters, the Noida Authority has approved a proposal to build another expressway from Gautam Buddha Nagar to Faridabad. Once completed, the expressway will offer commuters direct connectivity to Faridabad and they will be able to avoid the massive jams seen on the route. The 75-m wide expressway will start from Sector 150, on the outskirts of Noida. A four-lane bridge will also be built on the Yamuna, taking the expressway to Faridabad.

Unknown Object

The plan has been included in Noida’s Master Plan-2031 by the planning department and the proposal has now been sent to the state government for approval. Once ready, the 14-km expressway will allow commuters to avoid the congested Badarpur bypass. The expressway will have entry/exit points between sector 150-152 in Noida and close to Greater Noida’s Pari Chowk. Going through Noida and Greater Noida, the expressway will reach the Yamuna bank and then go on to Dalelpur in UP. Also passing through Haryana’s Mehatpur, Lalpur, Bhupauni and Khedi villages, the expressway will reach NH-2 near Palwal.

The authority is waiting for a final nod from the state government and is expecting to begin work soon. “It will benefit people across NCR, making their travel faster and smoother,” said Rajpal Kaushik, senior town planner of Noida Authority. “Once work begins the expressway will be completed in three years,” he added.

26 Feb 2011

Bridging the Gap

It’s what the buzz is all about: The Noida Expressway. Punters and investors are betting big and promising double-digit returns on any investment period for this area.

The Expressway is a 24.53 km stretch, with 3 km inside Greater Noida and the rest in Noida. It is a six-lane highway, connecting Noida and Delhi, to Greater Noida. Built at a cost of R400 crore, it aims at reducing traffic on National Highway 2. A total of 40 sectors are planned along the Expressway, which is further separated under four zones under the Noida Master Plan 2021.

Unknown Object

Noida Expressway itself is an extension of Noida that was initially envisaged to take the pressure off Delhi.
The government had to develop Noida and Gurgaon as alternative satellite townships to accommodate the burgeoning populations in residential and industrial areas around Delhi. These townships were planned to reduce the burden of rapid development on the capital.
Noida was built to accommodate population growth for 20-25 years, but it was overloaded in just 15. Thus the creation of Greater Noida.
The Noida and Greater Noida Expressway was conceived to link the two.

Noida has already established itself as a planned, organised and green hub. The Expressway will only accentuate this with its planned green patches interspersing the mammoth residential parks that are being built. According to a survey conducted by 99acres.com among its broker clients, a majority felt that this area will experience an appreciation of 21% over a period of 78 months. Sector 93 and a little beyond is where we are likely to see price appreciation in the near future. So, if you are looking for a longterm investment, this would be the right place.

Running parallel to the Expressway is a stretch of land that has great residential as well as commercial value. Sectors 94, 124, parts of 105 and 143 are totally commercial, whereas sectors 93A and B, 128 and 32 are residential.

Overall, there has been appreciation of over 18% in the area over the last year.
The major hotspot is Sector 93, which is almost fully developed. It has seen huge price appreciation since September ’09 to September `10, a 10% increase in rental rates. What could be rented here at R20,000 earlier now costs R22,000. Capital values in the area for resale are in the range of R5,500 per sq ft.

Construction is underway in the new sectors, including 93, 128, 134 and 151. Some new projects are in the pipeline for sectors 119, 120 and 137.

http://epaper.hindustantimes.com/PUBLICATIONS/HT/HD/2011/02/26/ArticleHtmls/Area-watch-Noida-Expressway-Bridging-the-gap-26022011229002.shtml?Mode=1

8 लेने के पुल को मिली मंजूरी
26 Feb 2011, 0400 hrs IST

मुख संवाददाता॥ नोएडा
नोएडा अथॉरिटी की बोर्ड की बैठक में कालिंदी कुंज के पास यमुना पर 8 लेन का पुल बनाने को मंजूरी मिल गई है। एक महत्वपूर्ण

फैसले में नैशनल बॉटैनिकल गार्डन के डिवेलपमेंट को लेकर अथॉरिटी ने केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय के साथ हाथ मिलाया है। इसके लिए मंत्रालय और अथॉरिटी एक सोसायटी का गठन करेंगे। इसमें 10 मेंबर होंगे। बैठक में वर्ष 2011-12 का बजट प्रस्ताव लाना था, लेकिन इसे अब अगले महीने प्रस्तुत किया जाएगा। नोएडा और साउथ दिल्ली को मेट्रो से कनेक्ट करने का प्रस्ताव भी बैठक में नहीं रखा जा सका। बैठक में 35 प्रस्ताव रखे गए थे, जिनमें बजट को छोड़कर सबको मंजूरी मिल गई।
बॉटैनिकल गार्डन का डिवेलपमेंट
सेक्टर-38ए स्थित 200 एकड़ जमीन पर बन रहे नैशनल बॉटैनिकल गार्डन का डिवेलपमेंट अब नोएडा अथॉरिटी और केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय मिलकर करेंगे। डिप्टी सीईओ एन. पी. सिंह ने बताया कि लगभग डेढ़ दशक से पेंडिंग चल रहे इस प्रोजेक्ट में कई टर्निंग पॉइंट आए। प्रोजेक्ट में प्रोग्रेस न होने पर अथॉरिटी ने दो बार इसे कैंसल करने का प्लान बनाया, लेकिन अब सब विवाद खत्म हो गए हैं। सिविल वर्क का काम अथॉरिटी कराएगी और रिसर्च वर्क का काम पर्यावरण मंत्रालय के जिम्मे होगा। गार्डन में 5.5 एकड़ क्षेत्र में नैशनल म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री का कैंपस बनाने का भी फैसला किया गया है। यह फैसला केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय का है। इसमें देश की दुर्लभ वनस्पति को संजोकर रखा जा सकेगा।
पुल का प्रस्ताव मंजूर
अथॉरिटी के सीईओ रमा रमण ने बोर्ड की बैठक के बाद फैसलों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि साउथ दिल्ली से ओखला बैराज के प्रवेश मार्ग पर जाम की समस्या को ध्यान में रखते हुए 8 लेन का पुल बनाने का प्रस्ताव रखा गया था। इसमें अथॉरिटी ने एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट भी मांग लिया है। बोर्ड के निदेशक मंडल ने इस प्रस्ताव को मंजूर कर अथॉरिटी को पुल बनाने के लिए हरी झंडी दे दी है।
आवंटियों को मिली राहत
एचआईजी और एमआईजी के आवंटियों को कुल धनराशि पर एक साल के लिए 10 पर्सेंट ब्याज को मूल्य के साथ समायोजित करने का प्रस्ताव अनुमोदित किया गया है। यह फैसला आवंटियों की अर्जी पर किया गया। आवंटियों ने कहा था कि भवन निर्माण में एक साल की देरी हुई है। इस कारण आवंटियों की जमा कराई गई धनराशि पर 10 पर्सेंट ब्याज मूल्य के साथ समायोजित कर लिया जाएगा।
आईटीआई की मरम्मत
अथॉरिटी ने झुंडपुरा में आईटीआई सेंटर की मरम्मत के लिए 74 लाख रुपये का प्रस्ताव अनुमोदित किया है। गांव छपरौली बांगर में 8.5 हेक्टेयर जमीन किसानों की आबादी के रूप में नियमित किए जाने का प्रस्ताव भी अनुमोदित किया गया।
सुरक्षा को दी झंडी
सिक्युरिटी , सर्विलांस और ई – गवर्नेंस व्यवस्था को जिले में लागू करने के लिए अथॉरिटी ने प्रस्ताव पारित कर दिया है। इस प्रस्ताव के तहत 380-400 करोड़ की लागत से प्रोजेक्ट तैयार होगा। इसे 18 महीने में पूरा किया जाएगा।
कॉलेजों का भी ख्याल
नोएडा और ग्रेटर नोएडा में चल रहे चारों कॉलेजों के संचालन हेतु अथॉरिटी की तरफ से 5 करोड़ रुपये देने और 3 महीने तक चली जल विभाग की एमनेस्टी स्कीम में छूट देने के प्रस्ताव को भी पारित किया गया।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7575241.cms

Delhi-Noida link will have 8 lanes

Posted: Sat Feb 26 2011, 02:22 hrs Noida:

In a huge relief to commuters, the Kalindi Kunj overbridge — connecting the South Delhi areas of Sarita Vihar, Kalindi Kunj and Badarpur to Noida — will soon be widened from the existing four lanes to eight lanes. The decision was taken by the Noida Authority in its 171st board meeting to ease traffic flow on the bridge, which is the only link between South Delhi and Noida at present.

With the widening of this road, travel between Faridabad, Delhi, Noida and Ghaziabad will become easier, officials believe.

“Commuters from South Delhi and Faridabad take this route to reach Noida and Ghaziabad. A commuter from Faridabad would use this route if he needs a shortcut to reach Ghaziabad. Considering the ever-increasing traffic load, we have decided to widen it by four more lanes. The road would also be connected to the Noida-Greater Noida Expressway, providing an easy access to Greater Noida as well,” said Rama Raman, CEO of the Noida-Greater Noida Authority.

The Authority has earmarked a budget ofRs. 300 crore and also received permission from the UP Irrigation department for constructing the additional lanes. “The existing four-laned road is not longer sufficient for the traffic. As a part of the overbridge, which falls in Kalindi Kunj, belongs to the UP Irrigation department, we have secured the necessary approval for it,” said the senior official.

The Noida Authority had signed a pact with the DND Flyway operators not to open any other route over the Yamuna river between Delhi and Noida for 10 years from the date of the contract, signed in February, 2001. The contract term got over on February 7 this year, a senior Noida official said. The authority has now taken up work to ensure a better connectivity between Noida and Delhi.

http://www.indianexpress.com/news/delhinoida-link-will-have-8-lanes/755109/

यमुना में एशिया की सबसे बड़ी टाउनशिप
26 Feb 2011, 0400 hrs IST

एक संवाददाता।। ग्रेटर नोएडा
यमुना अथॉरिटी की हुई 39वीं बोर्ड बैठक में कई अहम फैसले लिए गए। यमुना में एशिया की सबसे बड़ी रेजिडेंशल टाउनशिप

बसाई जाएगी। यह टाउनशिप 4 हजार एकड़ एरिया में होगी। साथ ही अथॉरिटी ने आवासीय, कमर्शल, ग्रुप हाउसिंग और संस्थागत के रेट बढ़ा दिया है। बुलंदशहर से यमुना एरिया में शामिल हुए 40 गांवों के किसानों को 880 रुपए प्रति वर्ग गज की दर से मुुआवजा दिया जाएगा। किसानों से लीज बैक में अलग से विकास शुल्क नहीं लिया जाएगा। बोर्ड के सामने आए सभी 41 प्रस्तावों को मंजूरी दे दी गई। 4 और टाउनशिप
मेगा रेजिडेंशल टाउनशिप के अलावा 100-100 एकड़ के प्लॉट पर 4 टाउनशिप बसाने को मंजूरी दी गई है। जेपी एसके स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड का नाम बदलकर जेपी स्पोर्ट इंटरनैशनल लिमिटेड कर दिए जाने को भी बोर्ड ने अपनी मुहर लगा दी है। आवासीय सेक्टर-18 और 20 में 6 नर्सरी, 4 सीनियर सेकंडरी स्कूल और एक कॉलेज बनाने की भी स्वीकृति दे दी गई है। इसके अलाव डेडिकेटेड फ्रॉट कॉरिडोर के लिए 16 गांवों की जमीन के प्रस्ताव को अथॉरिटी ने एनओसी दे दी है।
लेखपालों का वेतन बढ़ा
बोर्ड बैठक की जानकारी देते हुए यमुना अथॉरिटी के एसीईओ वाई. के. बहल ने बताया कि यमुना अथॉरिटी के लेखपालों के वेतन में बढ़ोतरी कर 455 रुपए प्रति दिन कर दी गई है। यमुना एक्सप्रेस-वे पर सर्विस लेेन का मुआवजा बढ़ा कर 580 रुपए वर्ग मीटर और आगरा अलीगढ़ एक्सप्रेस-वे ग्रीन बेल्ट का खर्चा यमुना अथॉरिटी वहन करेगी।
बिजली का सबस्टेशन
यमुना एरिया के सेक्टर-17 ए में 33/11 केवीए का बिजली सबस्टेशन के लिए मंजूरी दी गई है। बहल ने बताया कि ग्रेटर नोएडा से आगरा तक यमुना अथॉरिटी का मास्टर प्लान बंगलुरु की आईटी कंपनी तैयार करेगी।
दरों में बढ़ोतरी (प्रति वर्गमीटर में )
पहले अब
आवासीय 5500 5650
कमर्शल 11000 11300
ग्रुप हाउसिंग 5000 5150
संस्थागत 5000 5150
अस्पताल 4500 4650
औद्योगिक 3050 3175
नर्सरी स्कूल 5500 5650

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7576928.cms

डिवेलपमेंट के ट्रैक पर मेट्रो
25 Feb 2011, 0400 hrs IST

विनोदशर्मा ॥नोएडा

बॉटैनिकल गार्डन स्टेशन और कालिंदी कुंज के कनेक्टिविटी प्लान को नोएडा अथॉरिटी शुक्रवार को होने वाली बोर्ड की बैठक में रखेगी। इस प्लान को सप्लिमेंटरी अजेंडा में रखा जाएगा। इसके मंजूर होते ही नोएडा को साउथ दिल्ली से जोड़ने का एक नया रास्ता खुल जाएगा।
जनकपुरी से कालिंदी कुंज तक जो टै्रक डीएमआरसी बना रही है, उसे बॉटैनिकल गार्डन तक बढ़ाने के लिए लाइन को 3.76 किलोमीटर और बनाना पड़ेगा। इसका अथॉरिटी ने लगभग 780 करोड़ इस्टीमेट बनाया है। इस एस्टिमेट में यमुना नदी पर मेट्रो की लाइन बनाने का खर्च भी शामिल है। अथॉरिटी के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि नोएडा से ग्रेटर नोएडा तक मेट्रो लाइन बनाने के प्रोजेक्ट से पहले इस पर काम शुरू होना है।
Unknown Object
पिछले दिनों डीएमआरसी ने कहा था कि अगर नोएडा अथॉरिटी अपना प्रस्ताव मंजूर करके भेजती है, तो जनकपुरी से कालिंदी कुंज की बजाय नोएडा के बॉटैनिकल गार्डन तक मेट्रो लाइन को बनाया जा सकता है। इसी के मद्देनजर अथॉरिटी ने प्रस्ताव तैयार किया है। इस कनेक्टिविटी के बाद नोएडा से फरीदाबाद और गुड़गांव की लाइन पर पहुंचना आसान हो जाएगा। नोएडा के लोगों को राजीव चौक या केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन जाने की जरूरत नहीं होगी। साथ ही, नोएडा से वाया कनॉट प्लेस या वाया वसंत कुंज एक रिंग रेलवे मेट्रो की हो जाएगी, जो जनकपुरी में नोएडा से आने वाली दोनों लाइनों को लिंक करेगी। इस टै्रक पर डीएमआरसी चाहे तो मेट्रो की रिंग रेलवे चला सकेगी। इसके बन जाने के बाद दक्षिण दिल्ली के जैतपुर, मीठापुर, तेहखंड एक्सटेंशन आदि इलाकों के लोगों को फायदा होगा। नोएडा में सेक्टर-94, 124, 44 आदि में रहने वालों के साथ ही ग्रेटर नोएडा से एक्सप्रेस वे के रास्ते आने वालों को साउथ दिल्ली जाने के लिए एक नई मेट्रो लाइन मिल जाएगी।
अथॉरिटी एक प्रस्ताव के जरिए मेंबरों को यह जानकारी भी देगी कि ओखला बैराज के निकट यमुना पर वह एक नया पुल बनाना चाहती है। इसके लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट ऑफर किया गया है। बोर्ड से हरी झंडी मिलने के बाद अथॉरिटी आगे की कार्रवाई शुरू करेगी।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7564442.cms

ग्रेनो में मेट्रो को मिली हरी झंडी
26 Feb 2011, 0400 hrs IST

प्रमुख संवाददाता।। ग्रेटर नोएडा
शुक्रवार को अथॉरिटी की बोर्ड की बैठक में कई महत्वपूर्ण प्रस्ताव पास किए गए। नोएडा, ग्रेटर नोएडा और उत्तर प्रदेश परिवहन निगम मिलकर एक संयुक्त कंपनी बनाएंगी। यह कंपनी ही दोनों शहरों के साथ-साथ एनसीआर में बसों का संचालन करेंगी। ग्रेनो में मेट्रो लाने के लिए भी डीएमआरसी के साथ समझौते को बोर्ड ने मंजूरी दे दी है। साथ ही शहर को गाजियाबाद से कनेक्ट करने के लिए जीडीए को धन आवंटित करने और जमीन देने के प्रस्ताव को पास कर दिया गया है।
ट्रांसपोर्ट सिस्टम सुधरेगा
ग्रेनो अथॉरिटी के डीसीईओ पी. सी. गुप्ता ने बताया कि बोर्ड मीटिंग में ट्रांसपोर्ट सिस्टम को सुधारने के संबंध में कई अहम फैसले लिए गए। जॉइंट कंपनी में नोएडा अथॉरिटी का 50 पर्सेंट, ग्रेनो अथॉरिटी का 40 और राज्य परिवहन निगम का 10 पर्सेंट शेयर होगा। इसका संचालन तीनों संस्थाओं के सदस्यों की एक कमिटी करेगी।
गुप्ता ने बताया कि मेट्रो के संबंध में भी महत्वपूर्ण फैसला लिया गया है। डीपीआर तैयार करने के लिए डीएमआरसी से समझौते का प्रस्ताव बोर्ड में पास कर दिया गया है। अगले 3 माह में डीएमआरसी डीपीआर तैयार कर अथॉरिटी को मुहैया कराएगी। उसमें ट्रैक, लागत, स्टेशन, रूट आदि के बारे में अंतिम फैसला होगा। इसके बाद मेट्रो का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।
अथॉरिटी का होगा ऑफिस
ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी का अपना ऑफिस बनाया जाएगा। यह नॉलेज पार्क-4 में 5 एकड़ एरिया में फैला होगा। इस 22 मंजिली इमारत का डिजाइन तैयार कर लिया गया है। इस पर 400 करोड़ रुपये की लागत आएगी। बोर्ड मीटिंग में इसका प्रस्ताव पास कर दिया गया है।
गाजियाबाद से जुड़ेगा ग्रेनो
ग्रेनो को गाजियाबाद से कनेक्ट करने वाली सड़क पर करीब 1.5 किलोमीटर के दायरे में आ रही रुकावट को दूर कर लिया गया है। बोर्ड ने जीडीए की मांग के अनुसार विवादित हिस्से की कुल लागत का आधा हिस्सा (25.70 करोड़ रुपये) और विस्थापित ग्रामीणों के लिए 2 एकड़ जमीन देने का प्रस्ताव भी पास कर दिया।
हिंडन पर बनेगा पुल
नोएडा और ग्रेटर नोएडा के बीच एक और रोड बनाने और हिंडन नदी पर पुल बनाने का प्रस्ताव भी बोर्ड ने पास कर दिया है। इस पुल के निर्माण के बाद नोएडा के फेज -2 इलाके से ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन के निकट दोनों शहर डायरेक्ट कनेक्ट हो जाएंगे।
अमरपुर के निकट पावर स्टेशन
डीसीईओ ने बताया कि बिजली की दिक्कत को दूर करने के लिए अमरपुर गांव के निकट 765 केवीए क्षमता का पावर स्टेशन का निर्माण कराया जाएगा। इसका निर्माण यूपीपीसीएल कराएगा। इसके लिए ग्रेनो अथॉरिटी जमीन मुहैया कराएगी।
एजुकेशन के लिए 5 करोड़
बालक और बालिका इंटर कॉलेज के संचालन के लिए अथॉरिटी ने 5 करोड़ रुपये शिक्षा समिति को आवंटित करने का भी फैसला किय ा है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/7576876.cms

एनसीआर के शहरों को मेट्रो से जोड़ने की तैयारी
24 Feb 2011, 0400 hrs IST

विशेष संवाददाता ॥ लखनऊ
वेस्टर्न यूपी के लिए अब दिल्ली दूर नहीं है। दिल्ली-वेस्टर्न यूपी खासकर एनसीआर के प्रमुख शहरों के बीच दूरियों को कम करने के लिए मायावती और ममता बनर्जी में आपसी सहमति बन गई है। तभी दिल्ली मेट्रो प्रोजेक्ट गाजियाबाद से आगे बढ़कर मेरठ तक पहुंच गया है। आनंद विहार इसका मुख्य सेंटर बनने जा रहा है। भविष्य में नोएडा-ग्रेटर नोएडा-जेवर में मेट्रो दौड़ा करेगी और दादरी, तुगलकाबाद, बल्लभगढ़ के बीच भी रेल मार्ग का डेवलेपमेंट तेज होना है।
यूपी-एनसीआर पुलिस जोन बनाने के बाद मायावती सरकार का सारा ध्यान वेस्टर्न यूपी के इन हिस्सों को हरियाणा-राजस्थान एवं मध्य प्रदेश की सीमाओं से जुड़े नगरों से जोड़ने का है। तभी रेल और रोड के एक्सटेंशन को टारगेट में लिया गया। प्रस्तावित इंटरनैशनल एयरपोर्ट जेवर (बुलंदशहर) को भी लिंक मार्ग से जोड़कर मेट्रो प्रोजेक्ट में लाने का इरादा स्टेट गवर्नमेंट का है। यूपी के चीफ सेक्रेट्री अतुल गुप्ता ने यह जानकारी बुधवार को एनबीटी को दी।
डीएमआरसी के प्रोजेक्टों को मिली मंजूरी के अनुसार नोएडा-ग्रेटर नोएडा को फरीदाबाद से जोड़ने के लिए एक्सप्रेस-वे बनना है। गुप्ता ने बताया कि इन सब प्रोजेक्टों के मुखिया ग्रेटर नोएडा के सीईओ होंगे और उन्हें मेंबर सेक्रेट्री पद का दर्जा दिया गया है। गाजियाबाद, गौतमबुद्घनगर, बुलंदशहर के डीएम कमिटी मेंबर होंगे। यूपी सरकार का इरादा इस जोन को कॉरपोरेट जोन की तरह विकसित करने का है।
गुप्ता ने बताया कि आनंद विहार से मेरठ के बीच भविष्य में दौड़ने वाली हाई स्पीड ट्रेनों-मेट्रो का यह प्रोजेक्ट लगभग इक्कीस हजार करोड़ रुपये का है। इन दोनों स्टेशनों के बीच सोलह स्टेशन बनेंगे। ट्रेन का अधिकतर रूट अंडरग्राउंड रहेगा, जिसमें सात स्टेशन गाजियाबाद जिले में पड़ेंगे। राज्यों को इस प्रोजेक्ट में तीस फीसदी राशि ही खर्च करनी पड़ेगी। जीडीए नवंबर 2010 में ही इस प्रस्ताव पर मुहर लगा चुका है। अब माया सरकार ने भी इसे अपनी मंजूरी दे दी है।
रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) और दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर (डीएमआईसी) प्रोजेक्ट की दो अलग-अलग बैठकों के बाद गुप्ता ने यह भी बताया कि गौतमबुद्घनगर, गाजियाबाद और बुलंदशहर के चिह्नित हुए इलाकों में प्राइवेट सेक्टर से पूंजी निवेश की कवायद को और तेज करने का फैसला हुआ है। उधर रेल मंत्रालय ने यूपी सरकार से हुई बातचीत के बाद यहां इन सभी प्रोजेक्टों को शुरू करने का निर्देश दे दिया है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/7557068.cms

मास्टरप्लान फाइनल करने के लिए हुई मीटिंग
23 Feb 2011, 0400 hrs IST

क संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा :
यमुना व ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी फेस-2 के मास्टरप्लान को अंतिम रूप देने के लिए तीनों अथॉरिटी के चेयरमैन ने अधिकारियों के साथ मीटिंग की। यमुना अथॉरिटी का मास्टरप्लान बनाने के लिए रेखा दिव्यानी को कंसलटेंट नियुक्त किया गया है। यमुना अथॉरिटी एरिया में बुलंदशहर खुर्जा अथॉरिटी एरिया के 40 गांवों को शामिल कर दिया गया है। इस वजह से नया मास्टरप्लान बनाया जाना है। इसके अलावा ग्रेटर नोएडा फेस-2 का विस्तार किया जा रहा है। यह विस्तार हापुड़, बुलंदशहर एरिया के सिकंद्राबाद व गुलावठी तक होगा। इसमें बादलपुर समेत करीब 189 गांव शामिल होंगे।
पावर प्लांट के लिए खदैंडा के पास अधिग्रहित होगी जमीन
प्रमुख संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा :
2 हजार मेगावॉट के पावर प्लांट के लिए मंगलवार को ग्रेनो अथॉरिटी में प्लानिंग विभाग और यूपीपीसीएल के अधिकारियों की डीसीईओ के साथ मीटिंग हुई। प्रोजेक्ट के लिए फेस-2 में 1200 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहीत की जाएगी। यूपीपीसीएल) के एक्सईएन श्रीचंद्रा को यमुना पावर कॉरपोरेशन का नोडल अधिकारी बनाया गया है। डीसीईओ पी. सी. गुप्ता ने बताया कि इस प्रोजेक्ट को लेकर लखनऊ में सीनियर अधिकारियों की मीटिंग हो चुकी है। प्रोजेक्ट के लिए ग्रेटर नोएडा फेस-2 एरिया के खदैंडा गांव के पास उपरालसी, आनंदपुर, मिलक खटाना व आसपास के गांवों की जमीन अधिग्रहीत होगी।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/7552109.cms

हिंडन नदी पर बनेगा एक और पुल
23 Feb 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स

एक संवाददाता ॥ ग्रेटर नोएडा
नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच राह आसान करने के लिए अथॉरिटी कुलेसरा और नोएडा एक्सटेंशन के बीच में हिंडन नदी पर

नए पुल का निर्माण कराएगी। इस पुल के बन जाने से नोएडा फेज-2 और ग्रेटर नोएडा एक्सटेंशन का इलाका आपस में कनेक्ट हो जाएगा। पुल के जरिए नोएडा से सीधे बादलपुर और दादरी पहुंचा जा सकेगा। ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने पुल के निर्माण के लिए प्लानिंग शुरू कर दी है।

Unknown Objectनोएडा से ग्रेटर नोएडा आने-जाने के लिए अब तक 3 रास्ते है जिनमें डीएससी रोड, एक्सप्रेस-वे और नोएडा एक्सटेंशन में प्रर्थला खंजरपुर के पास हिंडन नदी पर बना पुल शामिल है। अथॉरिटी अफसरों का कहना है कि गौतमबुद्ध बालक इंटर कॉलेज के पास से सीधे बादलपुर के लिए 80 मीटर चौड़ा रोड बनाया जा रहा है। कॉलेज के पीछे से 6 लेन का एक रोड सीधे हिंडन नदी पुश्ता तक बनाया जा रहा है। यह रोड ग्रेटर नोएडा के फॉर्महाउसों के बीच के होते हुए हिंडन नदी तक बनाया जाएगा। जिस स्थान पर यह रोड हिंडन नदी पर मिलेगा, उसी स्थान पर पुल का निर्माण कराया जाएगा। यह आगे नोएडा फेज-2 एरिया में मिल जाएगा। हिंडन नदी पर इस पुल के बन जाने से नोएडा और ग्रेटर नोएडा के बीच रास्ता सुगम हो जाएगा। लोग नोएडा से सीधे बादलपुर और दादरी आसानी से पहुंच सकेंगे। इस रोड से ही 130 मीटर एक्सप्रेस-वे, पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे भी टच हो जाएगा। ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के डीसीईओ पी. सी. गुप्ता के मुताबिक, पुल बनाए जाने की तैयारी शुरू कर दी गई है।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/7552050.cms

3 Feb 2011

Here is the latest update in NavBharatTimes on Noida-Gnoida Metro, Noida metro extension and planning for eways to connect with other NCR towns.

Metro-to-connectNoida-with-NCR-towns

NCR’s Grand Troika On A Decongestion Drive

TOI, 29 Jan 2011

Noida-Greater Noida and Ghaziabad are on a major decongestion drive and the urban development authorities are going all out to improve and buttress road infrastructure new Metro lines,too,will play a major part in this and boost the connectivity of this troika with Delhi and other cities of the NCR

Unknown Object

Commuting from Delhi to Noida-Greater Noida and Ghaziabad will become easier in the near future,as the authorities concerned have designed a major road network and also the Metro line connecting these areas.A 28km-long Noida-Greater Noida Metro line will be completed by 2013 and in addition,six road networks are being finalized.

Rama Raman,CEO of Noida-Greater Noida authority,says: “In order to boost connectivity between the national capital and other NCR regions,we have planned to extend the existing Delhi-Noida Metro line.For this,a detailed project report (DPR) has already been approved.Now,we are approaching the financial institutions for viability gap funds and tax exemptions to meet the requirement.To obtain clearances from the departments concerned,the authority has appointed DMRC (Delhi Metro Rail Corporation ) as a consultant.According to the planned alignment,19 Metro stations have been proposed in the 28km-long Noida and Greater Noida Metro link,which will cost around Rs 5,000 crore.Nearly 65,000 passengers will commute daily (in peak hours) on the proposed Metro track.This Metro link will connect to Ghaziabad in the second phase of the plan.”

Noida-Greater Noida authority has also made a proposal for a “chain of connectivity” to link the twin cities to Delhi and other NCR towns like Ghaziabad,Gurgaon and Faridabad and this proposal has been already approved by the DMRC.In the chain of connectivity,the authority has proposed two new Metro links which cover all major areas of Delhi and the NCR.Under this,for the new Metro link 1,the existing Metro terminal at Sector 32 (City Centre) will be extended up to Sector 62 and further connect to Gajipur (Delhi).This new Metro link will cover Gajipur,Kalyanpuri,Mayur Vihar Phase 1,Sarai Kale Khan,Moolchand,AIIMS,and Bhikaji Kame Place.And through the new Metro link 2,Sector 18 will be extended up to NH 8.It will cover AIIMS,Okhla,Nehru Place,Malviya Nagar,and Vasant Kunj and further connect to Gurgaon and Faridabad via Central Secretariat and Badarpur.

When the dream comes true,Noida’s Sector 32 (City Centre) Metro line will extend up to Indirapuram via Sector 62,which connects further to Vaishali Sector 4-Indirapuram Metro route.

To improve the city-level infrastructure,the twin cities of Noida-Greater Noida and Ghaziabad entered a new phase with intense planning and implementation of city-level infrastructure.The authorities have designed six major road network plans.

Under the major road networking plan,a 130-meter wide and 28km-long highway from Parthala to Jewar,a 105-meter wide and 23km-long highway from Pari Chowk to Hapud,a 60-meter wide and 12km-long highway from Noor Nagar to LG Chowk and another 60-meter wide and 18km-long highway from Saini to Kuri Kheda will be constructed by 2013.All these will be linked to Noida-Greater Noida Extension,the existing expressway and to the proposed Eastern Peripheral.Like the Noida-Greater Noida authority,the Ghaziabad Development Authority (GDA) has also planned for major road infrastructure.Under this head,17 flyovers including three clovers have been proposed with some nearly completed.

According to Narendra Kumar Chaudhary,VC of GDA,the city will benefit from the 6-8 lane expressway linking Delhi to Meerut,Hapud and Bulandshahr.These three expressways,as well as the Delhi Metro peripheric (on the lines of Paris peripheric),will be a part of the new development in Ghaziabad.And,like Noida and Greater Noida authority,GDA’s proposal of an express-highway linking Meerut crossing to NH 24 will create integrated flyovers at all level crossings.In addition,the Delhi Metro service,the Northern Railway project (Integrated Railway-Bus Transport system) will make commuting easy between Noida,Ghaziabad and Delhi.

http://www1.lite.epaper.timesofindia.com/mobile.aspx?article=yes&pageid=66&edlabel=CAP&mydateHid=29-01-2011&pubname=&edname=&articleid=Ar06600&format=&publabel=TOI&max=true

Update 12 Jan 11

Projects Review

The Advisor for UP Infrastructure Projects, Mr M Ramchandra, was in Noida to review all major projects being executed by the 3 authorities of Noida/ Greater Noida and Yamuna Expressway. The  Advisor instructed to fast pace the various project including Delhi Mumbai Industrial Corridor (DMIC), Eastern Peripheral Expressway, Upper Ganga Canal expressway (GNoida- Haridwar), Boraki Transport Hub, Boraki Railway Junction, 130 mexpressway, Railway Over Bridges at Dadr/Dankor and Yamuna Expressway. He was also briefed on the future plan of GNoida and Yamuna Expressway Authority that is currently being finalized.

Unknown Object

For more on this, please read following article

Noida-GNoida-YEA-Projects-review

Update: 2 Jan 11

Future Plans for Noida, GNoida and Yamuna Authority Prepared

The CEO of the three authorities (Noida, GNoida & Yamuna Expressway), Mr Mohinder Singh has prepared the future vision for next 50 years. The plans should help the region be counted as one of the best in the world in terms of infrastructure. These plans really look grand and if implemented in time, could make this a mega hub of development in India

Unknown Object

The Plans include, 1)130 meter expressway, 40 km long, between Noida and Jewar airport 2) Projects to link Noda/GNoida with Ghaziabad, Hapur, Bulandshahr, Gulawati, Sikandarabad and Faridabad, 3) 4 new bridges across Yamuna river

For more on this, please refer below article in Hindi

Noida-GNoida-YEA-future-plan-ready

Below article from AmarUjala discusses that single authority would oversee various development plans for Noida/GNoida/Yamuna Expressway

single-authority-for Noida-GNoida-YEA

The below news article relates to a link road between Pari-Chowk and Sanuata (the starting point of Upper Ganga Canal Expressway)

Following is the list of projects expected to be completed in the year 2011 in Noida-Greater Noida

Noida-Gnoida-2011-gifts

Below news article notes that the internal development of yamuna expressway plots township (Sector 18/ 20) is going to start very soon

yamuna-expressway-plot-township-development-to-start-soons

The below artcile notes that a new township would be developed by GDA on the upcoming mini-expressway from NH-24 to greater noida (very near to Noida Extension and 130 m expressway, but in GDA area)

Ghaziabad-NH-24-Miniexpressway-GreaterNoida

pari-chowk-haridwar

Another below article discusses more about future planning of the 3 authorities  for 50 year vision

boraki-rail-jewar-130m-expressway

The below article discusses, plans to develop Greater Noida Phase 2 (Dadri-side)

Greater-noida-phase2-development-news

Following article is on 2 laning of Yamuna Pushta link road from Okhla Barrageto Greader Noida Expressway

yamuna-pushta-road-2lane-traffic-reduce

The Noida Sports City plan that was put on backburner is back on stage per below report

noida-sports-city-is-back

Following news would hearten the allottees of YEA plots as there are plans for dedicated connecting roads for these townships, separate from Yamuna Expressway

dedicated-roads-for-YEIDA-townships

Update: 27 Dec 10

‘Bridges in every 5-6 km to link NH-2 with Yamuna Expressway’

NOIDA: Bridges will be constructed at every five to six kms to connect the National Highway-2 with the Yamuna Expressway, a senior official said today.

“These bridges will provide connectivity for areas along the either side of Yamuna river. Work at one such bridge near Kalindi Kunj bridge will start from February,” Chairman of Yamuna Expressway Authority, Mohinder Singh.

He also announced the setting up of a multi-modal logistic hub at Greater Noida.

The Yamuna expressway will be completed by 2011 and work at Western Dedicated Freight Corridor, Eastern Peripheral Expressway, Upper Ganga Canal Expressway, Ganga Expressway will also be speed up in the upcoming year.

Projects worth Rs 10,000 crore were also announced that would be completed in the next five years.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: