Ghaziabad: NH-24 widening (8 lane) status

Prepare proposal for widening highways, UP tells Ghaziabad

Posted: Fri May 06 2011, 03:54 hrs Ghaziabad:

Senior officials from the Uttar Pradesh government have asked the Ghaziabad administration to prepare a proposal for widening national highways, so traffic flow in the district can be eased. ;”>After inspecting some areas, Principal Secretary Durga Shankar Mishra directed the authorities to send a proposal for widening the National Highway-58 (Delhi-Meerut road) eight-lane and joining it with National Highway-24 to make things easier for people commuting between Delhi, Noida and Ghaziabad.

A plan to construct a flyover akin to the one at AIIMS has also been discussed, and would soon be sent for approval.

Meerut Divisional Commissioner Bhuvnesh Kumar, District Magistrate Hridyesh Kumar and City Commissioner Umesh Kumar Mishra accompanied Mishra on an inspection tour. “I have informed the official that Ghaziabad needs funds to widen the national highway and join it with another highway, so there can be easy flow of traffic. Noida’s entry point is better off in many ways. We should start widening and connecting various roads to make entry and exit hassle-free,” Kumar said.

Unknown Object

The highway-widening project is estimated to cost Rs 138 crore.

To ease commuting troubles within the city, a proposal to construct a grade separator flyover has also been given the green signal. The flyover, estimated to cost Rs 100 crore, would be built at the Meerut crossing.

Authorities believe that the flyover will ease traffic flow from Hindon and Meerut. “Residents will benifit from the flyover, and it will ease traffic flow from Mohan Nagar and Meerut. We are trying do away with bottlenecks,” added Anil Garg, Chief Engineer, Ghaziabad Development Authority.

The four-lane road from Uttar Pradesh Gate to Dasna is currently one of the most congested NH corridors in the region.

http://www.indianexpress.com/news/prepare-proposal-for-widening-highways-up-tells-ghaziabad/786495/0

NH-24: 20km stretch to be widened

TNN Apr 28, 2011, 06.59am IST

NOIDA: After a delay of almost five years, the Uttar Pradesh government has granted a green signal to the proposed widening of NH-24. In a meeting held last Thursday, the authorities sanctioned the widening of the 20-km stretch of NH-24 to improve connectivity between Delhi and parts of Ghaziabad and Noida. Work has now begun on widening the existing 4-lane stretch between Uttar Pradesh border and Dasna to eight lanes, including a service lane on either side.
Unknown Object
Although the first proposal in this regard was made in early 2006, it never took off. Since then, residents and regular commuters on the stretch kept making persistent demands for the revival of the project. The authorities finally granted an approval to begin work last week. The project cost, however, has escalated from about Rs 20 crore to over Rs 200 crore now. The Ghaziabad authority has asked the Noida Authority to bear about one-third of the total cost since the widening work will ease considerable traffic flow on the 4.6 km stretch between Noida Model Town Chowk and UP Gate.

The delay in implementation of the widening work has also resulted in several traffic bottlenecks and major traffic jams on the stretch. On an average, around 70,000 vehicles ply each day on this stretch. “The expansion of NH-24 is of utmost importance. Given the traffic load on the stretch, the widening work will be supervised constantly to avoid any further delay. The Ghaziabad Development Authority has already released a part of its share of funds for the work and Noida Authority is in the process of releasing funds,” said District Magistrate, Deepak Aggarwal.

Currently, the four-lane road from UP gate to Dasna is one of the most congested NH corridors. Once the widening work is completed, this stretch will become almost signal-free. The authorities have also decided to keep it toll free considering that a large section of the traffic using this stretch is local.

http://timesofindia.indiatimes.com/city/noida/NH-24-20km-stretch-to-be-widened/articleshow/8104742.cms

एनएच -24 को आठ लेन करने के होंगे प्रयास : रविंद्र सिंह

Apr 25, 09:07 pm

प्रमुख सचिव आवास रविंद्र सिंह ने कहा कि एनएच – 24 हापुड़ रोड़ बाईपास को आठ लेन का बनाने के लिए प्रदेश शासन के माध्यम से केंद्र सरकार पर दबाव बनाया जाएगा। सड़क आठ लेन की बनने के बाद ही इस मार्ग पर यातायात का दबाव सामान्य हो सकेगा।

श्री सिंह सोमवार को गाजियाबाद विकास प्राधिकरण बोर्ड की बैठक में हिस्सा लेने आए थे। बैठक के बाद श्री सिंह ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि जिस तरह से वाहनों का दबाव लगातार बढ़ रहा है, ऐसे में आवश्यक है कि सड़कों की चौड़ाई भी आवश्यकता के अनुरूप हो। उन्होंने कहा कि वैसे भी केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्रालय की योजना इस सड़क को छह लेन बनाने की है। अब समस्या दो लेन अतिरिक्त सड़क की चौड़ाई बढ़ाने की है। ऐसे में इस पर आने वाली लागत नोएडा विकास प्राधिकरण, आवास विकास परिषद एवं गाजियाबाद विकास प्राधिकरण वहन करेंगे। इस मार्ग पर नोएडा एवं इंदिरा पुरम को जोड़ने के लिए अंडर पास का भी निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि महाराजपुर गांव एवं लोनी में रेलवे लाइन पर रेलवे के सहयोग से बनने वाले ओवर ब्रिज निर्माण के प्रस्ताव प्रदेश शासन को उपलब्ध कराने के सार्वजनिक निर्माण विभाग को निर्देश दिए गए हैं। इन ओवर ब्रिज के निर्माण पर 50 फीसदी पैसा प्रदेश शासन उपलब्ध कराएगा। प्रमुख सचिव आवास ने कहा कि दिलशाद गार्डन से मोहन नगर के बीच मेट्रो विस्तार के दिशा में अध्ययन कराया जा रहा है। अध्ययन रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद विचार किया जाएगा। प्रमुख सचिव ने सवालों के जवाब में कहा कि जहां तक गाजियाबाद की यातायात व्यवस्था में सुधार के लिए सीआरआईआई की रिपोर्ट का सवाल है, रिपोर्ट पर जिला प्रशासन, पुलिस, नगर निगम एवं दूसरे विभागों की राय लेने के निर्देश दिए गए हैं। इस बीच यह भी जानकारी की जाएगी कि किस तरह से महानगर की आंतरिक परिवहन व्यवस्था में सुधार किया जाए। तमाम विभागों के विचार प्राप्त होने के बाद उसे लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण को लैंड बैंक बनाने के लिए अधीनस्थ अधिकारियों को हिदायत दी गई है कि वह जमीन अधिग्रहण की धारा 4 एवं 17 को बीच में न लाए बल्कि किसानों से जमीन की खरीद करें।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_7635569.html

100 एकड़ में ग्रीन बेल्ट विकसित होगी
26 Apr 2011, 0400 hrs IST,नवभारत टाइम्स

प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद॥ जीडीए की बोर्ड बैठक सोमवार को हुई। इसमें चालू वित्तीय वर्ष के लिए 1535 करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत हो गया। इसमें 26 प्रस्ताव रखे गए थे। बैठक में दिलशाद गार्डन से मोहन नगर के बीच मेट्रो विस्तार पर चर्चा हुई। इसमें कहा गया कि जीडीए को अभी इसका डीपीआर ( डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट ) नहीं मिली है। रिपोर्ट मिलने के बाद इस पर कार्रवाई की जाएगी।

प्रमुख सचिव आवास ने बताया कि हिंडन पुल से लेकर राजनगर एक्सटेंशन तक एक सौ एकड़ में हरित पट्टी विकसित की जाएगी। किसानों से भूमि लेने के लिए पहले से प्रचलित धारा -4, 6 और 17 आदि का उपयोग नहीं किया जाएगा। अब किसानों से सीधे जमीन ली जा सकेगी। इस पर 500 करोड़ रुपये खर्च करने की बात कही गई। एनएच -24 को पहले छह लेन का करने का प्रस्ताव था। अब उसे आठ लेन का करने का निर्णय किया गया है। इसके लिए एनएचआईए से स्वीकृति मांगी गई है। आठ लेन बनाने में जो खर्च आएगा उसमें नोएडा , पीडब्ल्यूडी , उत्तर प्रदेश आवास विकास परिषद , जीडीए आदि अन्य सभी संबंधित संस्थाएं धन देंगी। एनएच -24 पर अंडरपास भी बनाए जाएंगे।
Unknown Object
उन्होंने बताया कि ट्रैफिक को स्मूद रखने के लिए सीआरआरआई की रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। दिलशाद गार्डन से मोहन नगर तक मेट्रो ट्रेन के विस्तार के बारे में अभी डीपीआर नहीं मिला है। डीपीआर मिलने के बाद ही कोई कार्रवाई की जाएगी। लोनी रोड पर रेलवे फाटक और महाराजपुर के पास रेल लाइन पर आरओबी बनवाया जाएगा। इस मौके पर उन्होंने भूमि पर अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए। पुलिस को राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान छह महीने के लिए जीडीए ने आठ बोलेरो जीप और दो इनोवा किराए पर उपलब्ध कराई थी। बाद में इनका समय बढ़ाया जाता रहा। इस पर जीडीए की ओर से 85 लाख 98 हजार 648 रुपये किराए के रूप में दिए गए। इस साल जीडीए पुलिस को दी गई कारों का किराया के रूप में एक करोड़ सात लाख 48 हजार 310 रुपये देगा। बैठक की अध्यक्षता अपर कैबिनेट सचिव और प्रमुख सचिव आवास रवींद्र सिंह ने की। वह गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष भी हैं। बैठक में जीडीए के वीसी एन . के . चौधरी , सचिव नरेंद्र कुमार और डीएम हृदयेश कुमार समेत कई अधिकारी मौजूद रहे।

तीन सदस्यों ने किया बहिष्कार

गाजियाबाद विकास प्राधिकरण बोर्ड के लिए नगर निगम के चार निर्वाचित पार्षदों में से तीन ने बैठक का बहिष्कार किया। इन पार्षदों के नाम मुकेश गर्ग , बिजेंद्र चौहान और हरि मोहन कौशिक हैं। गर्ग बैठक में आए थे , लेकिन बाद में चले गए। चौहान और कौशिक आए ही नहीं। बीएसपी के पार्षद प्रेम चंद भारती ने बैठक में भाग लिया।

बैठक का बहिष्कार करने वाले पार्षद मुकेश गर्ग ने बताया कि जब बोर्ड बैठक का एजेंडा दिया गया था तब पता लगा कि आगामी वर्ष में विकास पर 15 अरब रुपये खर्च किया जाएगा। बैठक की सूचना मिलने पर 18 अप्रैल को मुकेश गर्ग की ओर से जीडीए उपाध्यक्ष को पत्र लिखा गया था। इसमें एजेंेडे के साथ वर्ष 2008, 2009 की ऑडिट रिपोर्ट , ऑडिट के दौरान लगाई गई आपत्तियां और आपत्तियों के निस्तारण की जानकारी मांगी गई थी। लेकिन ये जानकारियां सोमवार तक नहीं दी गई। इस कारण उन्होंने बैठक में हिस्सा नहीं लिया।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8082534.cms

यूपी गेट से डासना तक 8 लेन का होगा NH 24
24 Apr 2011, 0400 hrs IST

नगर संवाददाता ॥ जीडीए

एक बार फिर यूपी गेट से डासना तक एनएच 24 को आठ लेन चौड़ा करने की कवायद शुरू हुई है। इस बार प्रदेश सरकार ने इस रोड को चौड़ा करने का प्लान तैयार किया है। जीडीए के चीफ इंजीनियर अनिल गर्ग के मुताबिक शुक्रवार को लखनऊ में एक बैठक हुई। बैठक में प्रिंसिपल सेके्रटरी (पीडब्ल्यूडी) ए.सी. मिश्रा ने फर्स्ट फेज में डासना तक एनएच-24 को आठ लेन का करने और सेकंड फेज में यूपी गेट से सीआईएसएफ तक चार लेन एलिवेटिड रोड बनाने का आदेश दिया। ऐलिवेटिड रोड बनाने में करीब 400 करोड़ रुपये खर्च होंगे। यह यह खर्च जीडीए, आवास विकास परिषद और नोएडा अथॉरिटी वहन करेगी।
Unknown Object
चीफ इंजीनियर अनिल गर्ग ने बताया कि एक वर्ष पहले पीडब्ल्यूडी ने यूपी गेट से डासना तक एनएच 24 रोड को छह लेन चौड़ा करने का प्रस्ताव शासन को भेजा था। इस प्रस्ताव की फाइल सरकार के पास अटकी है। उन्होंने बताया कि यूपी गेट से डासना की दूरी करीब 20 किलोमीटर है। फिलहाल यह रोड (एनएच 24) केवल चार लेन की है। इसे आठ लेन करने में करीब 300 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

एलिवेटिड होगी रोड

लखनऊ में हुई बैठक में चर्चा के दौरान यह बात सामने आई कि अगर एनएच 24 को आठ लेन का भी बना दिया जाए तो भी कटों पर ट्रैफिक अटकेगा। तब प्रिंसिपल सेके्रटरी (पीडब्ल्यूडी) ने सेकंड फेज में इंदिरापुरम के सीआईएसएफ तक चार लेन की एलिवेटिड रोड बनाने का आदेश दिया। इस रोड को बनाने में करीब 400 करोड़ रुपये खर्च होंगे, जिसे नोएडा अथॉरिटी, जीडीए और आवास विकास परिषद वहन करेगी। बैठक में नोएडा अथॉरिटी के सीईओ, पीडब्ल्यूडी के अधिशासी अभियंता रविदत्त, एनएचएआई के अधिशासी अभियंता, आदि अधिकारी मौजूद थे। गर्ग ने बताया कि एलिवेटिड रोड के बनने से जीडीए की इंदिरापुरम फेज-टू स्कीम, आवास विकास परिषद की दिल्ली-बुलंदशहर रोड बाईपास स्कीम और नोएडा के सेक्टर-58 रेजिडेंशल व इंडस्ट्रियल एरिया में रहने वालों को सीधा फायदा होगा।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/8067163.cms

आठ लेन का होगा एनएच-24

29 March 2011

गाजियाबाद। एनएच-24 की चौड़ाई को लेकर नई कवायद शुरू हुई है। प्रमुख सचिव आवास की मंशा पर जीडीए ने इसे 8 लेन करने का प्रस्ताव तैयार किया है। रविवार को लखनऊ में हुई बैठक में भी प्रमुख सचिव आवास ने जीडीए की कार्ययोजना को सहमति दी। दूसरी ओर, परिवहन मंत्रालय एनएच-24 को 6 लेन करने की मंजूरी पहले ही दे चुका है। पीडब्लूडी (स्टेट हाईवे विंग) एनएच-24 को 6 लेन करने के लिए टेंडर भी जारी कर चुका है।

Unknown Object

जीडीए एनएच-24 पर ट्रैफिक के दबाव को देखते हुए इसे 8 लेन करने पर लगातार जोर दे रहा है। इसकी वजह भी हैं। एनएच-24 के एक ओर नोएडा तो दूसरी ओर इंदिरापुरम है। इंटीग्रेटेड सिटी और हाईटेक सिटी भी इस सड़क से जुड़ी है। भविष्य में ट्रैफिक के दबाव को देखते वर्तमान में चार लेन एनएच-24 को जीडीए और ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने आठ लेन करने का प्रस्ताव रखा था। इन दोनों विभागों ने उस पर लगने वाली लागत को भी वहन करने का प्रस्ताव शासन को दिया था। उपरोक्त प्रस्ताव अन्य संस्थाओं के बीच सहमति न बन पाने के कारण परवान नहीं चढ़ पाया तो शासन ने इसे 6 लेन करने का निर्णय लिया।
पीडब्ल्यूडी (स्टेट हाईवे विंग) के अधिशासी अभियंता रविदत्त शर्मा ने बताया कि यूपी गेट से डासना तक 20.28 किलोमीटर लंबी सड़क को 6 लेन में बदलने की स्वीकृति मंत्रालय ने दी है। चौड़ीकरण के कुल प्रोजेक्ट की लागत करीब 128 करोड़ रुपये है। जिसमें सड़क निर्माण पर 85 करोड़ रुपये खर्च होंगे। एनएच-24 के 6 लेन चौड़ीकरण के लिए टेंडर प्रक्रिया भी पूरी हो चुकी है।
अब जीडीए ने एक बार फिर एनएच-24 को आठ लेन करने की कोशिश शुरू की है। जीडीए उपाध्यक्ष एनके चौधरी ने बताया कि प्रमुख सचिव आवास ने भी एनएच-24 को आठ लेन करने के प्रस्ताव पर सहमति जताई है। ब्यूरो
नए प्रस्ताव के मुताबिक दो अतिरिक्त लेन बनाने पर लागत बढ़ जाएगी। प्रमुख सचिव ने इस लागत को स्थानीय स्तर पर विभिन्न विभागों द्वारा मिलकर वहन करने की बात कही है। जीडीए के अलावा आवास विकास, ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी आदि विभाग मिलकर फंड की व्यवस्था करेंगे। उम्मीद है कि एनएच-24 आठ लेन होने का प्रस्ताव पास हो जाएगा।

http://epaper.amarujala.com/

एनएच- 24 को आठ लेन बनाना आवश्यक : जीडीए उपाध्यक्ष

गाजियाबाद, वरिष्ठ संवाददाता :

हापुड़ रोड बाईपास एनएच -24 को छह के बजाय आठ लेन करना अधिक लाभकारी होगा। दो लेन अतिरिक्त निर्माण पर आने वाले खर्च में जीडीए अपने हिस्से का खर्च वहन करने को तैयार है। प्रदेश शासन आवास विकास परिषद को भी हिस्सेदारी वहन करने के लिए दिशा निर्देश दे। इस संबंध में गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष नरेंद्र कुमार चौधरी ने प्रदेश के प्रमुख सचिव आवास को पत्र भेजा है। प्राधिकरण उपाध्यक्ष ने पत्र की प्रति मेरठ मंडल के आयुक्त, जिलाधिकारी गाजियाबाद व लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता को भी भेजी है। प्राधिकरण उपाध्यक्ष ने पत्र में कहा कि सड़क परिवहन एवं राज मार्ग मंत्रालय भारत सरकार के द्वारा यूपी गेट से डासना तक सड़क को छह लेन करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है। इस मार्ग पर यातायात के दबाव के कारण जाम की समस्या रहती है। प्राधिकरण उपाध्यक्ष ने कहा कि 21 मई 2008 को संपन्न हुई प्राधिकरण बोर्ड की बैठक में प्रस्ताव को इस शर्त के साथ मंजूरी दी गई थी कि इस मार्ग की चौड़ाई बढ़ने से लाभान्वित होने वाले तीन विभाग गाजियाबाद विकास प्राधिकरण, आवास विकास परिषद व नोएडा विकास प्राधिकरण संयुक्त एवं समानुपातिक रूप से इस मार्ग को दो लेन अलग से बढ़ाने पर आने वाले खर्च को वहन करेंगे। नोएडा प्राधिकरण ने भी इस शर्त के साथ सहमति दी थी कि इस मार्ग से नोएडा जाने वाले दो मुख्य रास्ते माडल टाउन पुलिस एवं एनआईबी पुलिस चौकी मोड़ को सिग्नल फ्री किया जाए। प्राधिकरण उपाध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग खंड लोक निर्माण विभाग द्वारा अवगत कराया गया कि इस मार्ग को आठ लेन करने के लिए 277 करोड़ रुपये लागत की योजना भारत सरकार को भेजी गई थी, लेकिन केंद्र सरकार द्वारा सड़क को 128.04 करोड़ रुपये लागत से छह लेन करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है। योजना में पांच स्थानों पर अंडर पास का निर्माण भी शामिल है। इन पांच अंडर पास में नोएडा प्राधिकरण द्वारा प्रस्तावित दो मोड़ पर भी अंडर पास शामिल है। प्राधिकरण उपाध्यक्ष ने कहा कि पुन: प्राधिकरण बोर्ड की 25 नवंबर 2010 को हुई बैठक के दौरान भी माना गया कि इस राष्ट्रीय राज मार्ग पर वाहनों का अधिक दबाव है। इसी मार्ग पर हाई टेक टाउन-शिप प्रस्तावित है। दो लेन अतिरिक्त चौड़ी सड़क के निर्माण पर खर्च होने वाले 150 करोड़ रुपये को गाजियाबाद विकास प्राधिकरण, आवास विकास परिषद व नोएडा प्राधिकरण द्वारा समानुपातिक तरह से वहन किए जाने पर विचार किया जा सकता है। प्राधिकरण उपाध्यक्ष ने कहा कि सड़क के दो लेन अतिरिक्त चौड़ा करने पर आने वाले खर्च के मामले में आवास विकास परिषद ने अपनी सहमति नहीं दी है। जबकि जीडीए, नोएडा विकास प्राधिकरण व लोक निर्माण विभाग के द्वारा आवास विकास परिषद से खर्च को वहन किए जाने के लिए अनुरोध किया जा चुका है। प्राधिकरण उपाध्यक्ष ने पत्र के माध्यम से कहा कि सड़क को आठ लेन करने के लिए लाभान्वित होने वाली संस्थाओं को दो लेन अतिरिक्त निर्माण पर आने वाले खर्च को वहन करने के लिए दिशा निर्देश देने का कष्ट करें।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_7521386.html

Makeover plans for road cuts at NH-24 to ease traffic jams

9 Feb 2011

After UP Gate Chauraha, it is now turn of some important crossings at NH-24 to get a makeover. The authorities are finally renovating important ‘chaurahas’ and roads cuts of NH-24 to ease the traffic jams.
In the initial phase, three crowded ‘chaurahas’ including Kala Pathar, Abhay Khand and CISF Cut, situated at Delhi-Hapur Bypass Road have been chosen for this plan. The GDA authorities believe that the traffic pressure from UP Gate has been reduced after widening of the road, which was done during the Commonwealth Games and this project will reduce the traffic pressure even more.
Unknown ObjectWith an estimated cost of Rs 6 crore, the project has started. “The irrigation and piling work is in the progress on these three sites and the work will complete within next three months”, says a supervisor at the site.

“No doubt this project will give a much needed relief to the commuters as we often get stuck on these chaurahas for long hours,” says Ram Bharti, a resident of Vaishali.
It is observed that there is acute traffic pressure on these road cuts besides peak hours, since heavy vehicles often pass through CISF Cut and via Kabavani Pulia. Chief engineer GDA Anil Garg says, “The traffic slows down at Abhay Khand, Kala Pathar or CISF Cut after coming from UP Gate. Since, many vehicles merge with ongoing traffic at these road cuts, while coming from GT Road or Mohan Nagar, the road gets blocked. It becomes difficult even for a two wheeler to pass through the jam-packed road. Keeping those complications in mind we are going to improve the traffic condition at these places.”
The 20 km stretch of the NH UP Gate to Dasna Tiraha will also be increased from existing four lanes to six lanes. With a huge cost of Rs 128 crore this project will also start by the end of this month and will definitely ease the traffic movement.
—Manoj Sinha

http://www.jagrancityplus.com/city-news/makeover-plans-for-road-cuts-at-nh-24-to-ease-traffic-jams_1297247350.html

एनएच-पीडब्ल्यूडी की गजब कहानी

चेतन आनंदगाजियाबाद।

21 Jan 2011

आगे दौड़, पीछे छोड़। यह कहावतएनएच-पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों पर एकदम सटीक बैठती है। एनएच-24 अभी छह लेनका बना नहीं आठ लेन की तैयारी अभी से शुरू कर दी है। अंडरपास को लेकर अभीअसमंजस बरकरार है। केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्रलय ने अभी अंडरपास की अनुमतिप्रदान नहीं की है। लेकिन अधिकारी हैं कि कागजों पर योजनाएं ही बनाने मेंजुटे हैं।

जीहां, इस साल मार्च महीने के पहले सप्ताह से एनएच-24 छह लेन का बनना है, केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्रलय ने इसकी अनुमति भी प्रदान कर दी है। यूपीगेट से डासना तिराहे तक कुल किलोमीटर का लम्बा चार लेन मार्ग अब छह लेन काहोगा। आठ लेन अगले साल बनना है। मगर आलम यह है कि एनएच-पीडब्ल्यूडी अधिकारीछह लेन की छोड़ इन दिनों आठ लेन का प्रस्ताव फाइनल करने की तैयारियों मेंजुटे हुए हैं। जबकि आठ लेन अगले साल और छह लेन इसी साल बनना है।

हाल ही में केन्द्रीय भूतल परिवहन अधिकारियों, एनएच-पीडब्ल्यूडी अफसरोंआदि विभाग की आपात बैठक हुई। इसमें पता चला कि छह लेन का मार्ग बनने मेंरोड़ अटक रहे हैं, अंडरपास पर भी सहमति नहीं बन पा रही है। अंडरपास चारबनने हैं लेकिन इसका बजट ही रिलीज नहीं हो पा रहा। मंत्रलय को इसकीआवश्यकता महसूस नहीं हो रही। जबकि बढ़ते वाहनों के कारण यातायात जाम विकटसमस्या बन गया है।

हर साल बढ़ जाते हैं 15 प्रतिशत वाहन
एनएच-24 पर यातायात ज्यादा होता जा रहा है। वाहनों की संख्या हर साल बढ़रही है। एनएच-पीडब्ल्यूडी के आंकड़े बताते हैं कि एनएच-24 पर वर्ष 2006 मेंसीवीडी यानी कमर्शल व्हीकल की संख्या 14943, हल्के वाहन 71,867 और अन्यवाहन 21,600 थी, लेकिन हर साल इनकी संख्या में 15 प्रतिशत का इजाफा हो रहाहै। इस कारण चार लेन के इस हाइवे पर यातायात जाम की समस्या पैदा होने लगीहै।

बॉक्स
एनएच-24 निर्माण-एक नजर में
-यूपी गेट से डासना तिराहे तक छह लेन का होगा
– कुल लम्बाई 20.28 किलोमीटर होगी।
– चार अंडरपास बनेंगे।
– ये अंडरपास काला पत्थर इंदिरापुरम, सीआईएसएफ कट, सेक्टर 62 नोएडा कट, विजय नगर तिराहा आदि पर बनेंगे।
– पूरे टेंडर की अनुमानित लागत 128.04 करोड़ तय की गई है।

अधिकारी बोले-
चार अंडरपास बनने हैं लेकिन अभी तय नहीं है कि बनेंगे भी या नहीं। इस बारेमें मंत्रलय से हरी झंडी मिलने का इंतजार है। वैसे उन्हें कोई लिखित आदेशनहीं आया है।
-सनत गुप्तऋषि, सहायक अभियंता, एनएच-पीडब्ल्यूडी

http://www.beta.livehindustan.com/news/location/rajwarkhabre/248-0-155257.html&locatiopnvalue=1

एनएच- 24 पर कटों की भरमारतो कैसे सुधरें हालात

Dec 27, 07:24 pm

गाजियाबाद, वरिष्ठ संवाददाता

राष्ट्रीय राजमार्ग-24 गाजियाबाद को केवल देश की राजधानी दिल्ली से हीनहीं जोड़ता, बल्कि यह उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बड़े हिस्से को दिल्लीसे जोड़ने वाला प्रमुख मार्ग है। इसके बावजूद जिले में इस मार्ग पर लगनेवाले जाम को नजरअंदाज किया जा रहा है। इस मार्ग पर यातायात का अधिक दबावहै। वहीं दो जिलों गाजियाबाद व गौतमबुद्ध नगर की यातायात पुलिस में तालमेलकी कमी व जगह-जगह बने कट और अंडर पास का अभाव जाम लगने की मुख्य वजह हैं।

इस मार्ग पर जाम लगने वाले प्रमुख स्थानों में विजय नगर के साथ हीसीआईएसएफ मोड़, माडल टाऊन चौकी, खोड़ा कालोनी शामिल है। हालत यह है किदिल्ली से सीआईएसएफ की तरफ चलें तो यहां पर सात कट यातायात में अवरोधउत्पन्न करते हैं। इसके साथ ही हिंडनपुल जहां से नोएडा की सीमा शुरू होतीहै यानि छिजारसी कट से लेकर यूपी गेट तक आधा दर्जन कट हैं। ये जाम का कारणबनते हैं। इनमें अधिकांश कट अवैध हैं। एनएच 24 जहां दिल्ली को उत्तराखंड केविभिन्न शहरों से जोड़ता है। वहीं प्रदेश की राजधानी लखनऊ के साथ हीप्रदेश के बड़े हिस्से को दिल्ली से जोड़ता है। इसके साथ ही गाजियाबाद केलालकुआं से शुरू होने वाला एनएच 91 भी इसी मार्ग से शुरू होता है।

अंडरपास बनें तो मिले राहत

पुलिस अधीक्षक यातायात जय प्रकाश कहते हैं कि जब तक कम से कम तीनअंडरपास नहीं बनेंगे जाम से निजात नहीं मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस संबंधमें संबंधित विभागों को अनेक बार लिखा जा चुका है। इसके बाद भी समाधान नहींहो पा रहा है। वहीं, एनएच 24 पर सीआईएसएफ से माडल टाऊन के बीच लगने वालेजाम के लिये मुख्य रूप से गाजियाबाद और नोएडा की यातायात पुलिस जिम्मेदारहै। गाजियाबाद के पुलिस अधीक्षक यातायात जय प्रकाश कहते हैं कि नोएडा कीमाडल टाऊन चौकी पर तैनात यातायात पुलिसकर्मियों का पूरा ध्यान नोएडा की तरफसे आने वाले यातायात को निकालना होता है। इसी कारण लंबे समय तक एनएच-24 अवरुद्ध रहता है।

तीन अंडरपास हैं प्रस्तावित

लोक निर्माण विभाग राष्ट्रीय राजमार्ग खंड के अधिशासी अभियंता रविदत्तकुमार कहते हैं कि सड़क को चौड़ा करने के प्रस्ताव में तीन अंडरपास भीशामिल हैं। उन्होंने कहा कि जल्द ही इस पर काम शुरू हो जाएगा।

http://in.jagran.yahoo.com/news/local/uttarpradesh/4_1_7092816.html

Delhi Ghaziabad highway widening sanctioned

Monday, 22 Nov 2010

Ministry of Road Transport & Highways sanctioned the work of widening of National Highway No 24 from UP gate ie Delhi/UP Border to Dasna to 6 lane facility. This will facilitate smooth movement of traffic using NH 24 especially to the residents of upcoming important residential localities of Indirapuram, NOIDA and Ghaziabad etc. who have been persistently demanding widening of NH 24 from UP Gate to Dasna to ease the traffic congestion in this stretch keeping in view high volume of traffic.

The bids for the above work have already been opened and are under evaluation. The work is expected to be started very soon.

Details of the Project:
Length of the project – 20 kilometers
Cost of Civil Work – INR 97 crore.
Cost of utility shifting and tree cutting – INR 31 crore.
Total Cost of the project – INR 128 crore.

Project Features
1. Construction of new 2 lane carriageway
2. Improvement of riding quality of existing 4 lane carriageway
3. Construction of 5 underpasses
4. Widening of 23 existing culverts
5. Construction of bus bays and other safety features keeping in view the requirement of urban nature of the area.
6. Shifting of electric poles and cutting trees
7. Protection work of HT electric towers

http://www.steelguru.com/indian_news/Delhi_Ghaziabad_highway_widening_sanctioned/176494.html

Update 26 Nov 2010

There is high speed heavy traffic on this stretch. The GDA always blamed the NHAI for the delay in the project.

NASIR KHAN, Vaibhav Khand The biggest boon will  be the widening of the National Highway 24.

The shifting of poles should start by January 2011.

ANIL GARG, chief engineer, GDA

There is good news for the city.
The national highway is finally being widened from the UP Gate to Dasna from four to six lanes. The much-awaited project had been announced year back but it is only now that the project has received a green signal.

The stretch is 20.28 km long.
This section will also have five underpasses. There were a lot of problems due to the four lanes on the highway for the commuters and the residents of Indirapuram and Noida Sector 62. “Accidents are common on this road since it is narrow.
Although a very important highway, it looks like some congested road in a village during peak hours,“ says Subodh Desai, a resident of Indirapuram.

A total of Rs 128 crore is being spent on the project. In its Vision Plan 2021, the Ghaziabad Development Authority (GDA) has stressed upon the need for underpasses here. Consultants are yet to be hired for preparing a complete design of the project.

“At any time of the day, there is high speed heavy traffic on this stretch. The GDA always blamed the National Highway Authority on India (NHAI) for the delay in the project,“ says Nasir Khan, a resident of Vaibhav Khand.

The NHAI has opened the technical bids for the project.
Out of the total money sanctioned, Rs 20 crore is to be spent on shifting the high-tension lines and Rs 10 crore will be spent on shifting the trees on the stretch. “This works takes up a lot of time. The GDA should also take active part in removing these hurdles so that the project can start soon,“ says MK Mangesh, a resident of Gyan Khand.

http://epaper.hindustantimes.com/PUBLICATIONS/HT/HD/2010/11/26/ArticleHtmls/NH-24-being-widened-from-UP-Gate-to-26112010755005.shtml?Mode=1

Widening Of Existing Four Lines To Six Lines Of NH-24 At Ghaziabad

Public Work Department

Bareilly – Uttar Pradesh – India

Superintending Engineer of Public Work Department, Bareilly issued corrigendum for Widening Of Existing Four Lines To Six Lines Of NH 24 At Ghaziabad. The document can be purchased from Bareilly.

http://tenders.indiamart.com/details/282209495/

Tuesday, 16 November 2010

जल्द नहीं शुरू हो पाएगा एनएच 24 के चौड़ीकरण का कार्य

अशोकओझा, गाजियाबाद

राष्ट्रीयराजमार्ग(एनएच) 24 कोचौड़ाकरनेकेलिएचाहेकेंद्रीयपोतपरिवहनऔरराजमार्गमंत्रालयनेस्वीकृतिजारीकरदीहो, लेकिनवर्तमानस्थितिकोदेखतेहुएतोयहीलगताहैकिवर्ष2010 मेंसड़ककीचौड़ाईबढ़ानेकाकामशुरूनहींहोपाएगा।अभीतोकेवलटेक्निकलबिडखुलीहै।पेड़वखंभेहटानेकाकामभीअभीशुरूनहींहुआहै।यदिवर्तमानस्थितिपरनजरडालेंतोजनवरी2011 मेंभीयदिकामशुरूहोजाएतोगनीमतहै।हालाकिसड़कनिर्माणकीजिम्मेदारीउठारहेलोकनिर्माणविभागएनएचखंडकेअधिकारीइसमामलेमेंखुलकरबोलनेसेबचरहेहैंकिकामकबतकशुरूहोगा।

एनएच-24 परयूपीगेटसेलेकरडासनातिराहेतकके20.28 किलोमीटरक्षेत्रकीचौड़ाईचारसेछहलेनकरनेकेप्रस्तावकोकेंद्रीयपोतपरिवहनऔरराजमार्गमंत्रालयने21 अगस्तकोअपनीमंजूरीप्रदानकीथी।इसकेलिएमंत्रालयने128 करोड़रुपयेस्वीकृतकिएथे, जिसमेंसे20 करोड़रुपयेबिजलीकेखंभोंकोशिफ्टकरनेपरखर्चकिएजानेहैंतथादसकरोड़रुपयेवनविभागकोपेड़ोंकोहटानेकेलिएदिएजानेहैं।शेषराशिसड़कचौड़ीकरनेऔरअंडरपासबनानेपरखर्चकीजानीहै।

टेक्निकलबिडखुली, अबहोगीकागजातकीजाच

लोकनिर्माणविभागकेएनएचखंडकेअधिशासीअभियंतारविदत्तकुमारनेबतायाकिएनएच-24 केलिएटेक्निकलबिडमंत्रालयमें12 नवंबरकोखुलचुकीहै।अबकरीबएकसप्ताहमेंबिडमेंप्रस्तुतकिएगएकागजातकीजाचहोगी।दोदिनशनिवारऔररविवारअवकाशहोनेकेकारणसोमवारसेकागजातकेवेरीफिकेशनकेलिएपत्रजारीकिएजाएंगे।इसप्रक्रियामेंएकसप्ताहसेअधिकसमयलगेगा।इसकेबादहीफाइनेंशियलबिडखोलीजाएगी।इसपूरेकार्यमेंकरीबएकमाहसेअधिकसमयलगेगा।

वनविभागकरचुकाहैसर्वे

रविदत्तकुमारकीमानेंतोपिछलेदिनोंवनविभागनेउनकेसाथसंयुक्तरूपसेसर्वेकियाथा।उसकीरिपोर्टआनेकेबादभुगतानकेलिएउसेमंत्रालयमेंभेजदियाजाएगा।उसकेबादहीकामशुरूहोगा।

डिजाइनकेलिएलीजाएगीकंसलटेंटकीमदद

इंदिरापुरम, ूपीगेट समेत पाच स्थानों पर पाच अंडरपास बनाए जाएंगे।इनकेस्थानचिन्हितकरनेऔरडिजाइनकेलिएकंसलटेंटकीमददलीजाएगी।इसकेलिएअभीकंसलटेंटनियुक्तकियाजानाहै।अधिशासीअभियंतानेउम्मीदजताईकिरिपोर्टआनेमेंकरीबएकमाहकासमयलगजाएगा।

बिजलीविभागकोनहींमिलाप्रस्ताव

पावरकॉरपोरेशनकेअधिशासीअभियंताविरागबंसलनेबतायाकिउन्हेंलोकनिर्माणविभागकेएनएचखंडसेअभीइससंबंधमेंकोईप्रस्तावनहींमिलाहै।ऐसीस्थितिमेंइसकार्यमेंभीसमयलगेगा।

ठेकामिलनेकेबादएकवर्षमेंपूराकरनाहोगाकार्य

सड़कपरिवहनएवंराजमार्गमंत्रालयकेप्रवक्ताकेमुताबिकइससड़कपरियोजनाकोछहलेनकाकरनेकोअगस्तमेंमंजूरीदिएजानेकेबादयूपीपीडब्ल्यूडीको120 दिनोंमेंनिविदाएंआमंत्रितकरनीथीं, लेकिनउत्तरप्रदेशमेंपंचायतचुनावकेकारणआचारसंहितालागूहोनेसेइसमेंदेरीहुई।अबयूपीपीडब्ल्यूडीइसप्रक्रियाकोआगेबढ़ाएगा।जिसपार्टीकोयहठेकामिलेगाउसेकाट्रैक्टमिलनेकेएकसालकेभीतरकामपूराकरनाहोगा।यानीप्रोजेक्टपरकामशुरूहोनेमेंअभीदेरहै, लेकिनयहनिर्धारितप्रक्रियाकेतहतहीहोरहाहै.

Govt Awards Rs 128 cr NH 24 Widening Project To UP PWD

Posted on Thu Aug 26, 2010 at 12:24:36 AM EST

To improve the connectivity between Delhi and parts of Ghaziabad and Noida, the highways ministry has now sanctioned the widening of the 20-km stretch of NH-24. The existing 4-lane stretch between Uttar Pradesh border and Dasna will be widened to six lanes.

The project will cost Rs 128 crore, according to an official document issued by the ministry of road transport and highways (MoRTH). The stretch will get five underpasses and 23 existing culverts will be widened.

The document states that the government took this decision in response to the persistent demands of residents of Ghaziabad, Noida and Indirapuram, besides public representatives and media persons. Officials said the work would be awarded soon so that the task of widening starts at the earliest. The 8-laning work, which is already underway on the 8-km stretch between Nizamuddin bridge and Ghaziabad border is expected to complete by the end of this year.

Presently, the 4-laned road from Ghaziabad border to Dasna is one of the most congested NH corridors in the country. Once completed, this stretch would become almost signal-free. Unlike the Delhi-Gurgaon expressway, this stretch will not be made a toll road. Sources said this decision was taken considering that a large section of the traffic using this stretch is local. The traffic on this road is expected to grow in view of increased occupancy in residential areas along NH-24 including Indirapuram and Crossings Republic, the two big sub-cities of Ghaziabad. Sources also said though the project could have been constructed on the BOT (toll) mode, they went for cash contract sensing that the toll mode could invite strong opposition from road users.

Though the plan was conceived a few years ago, somehow it did not take off. NH-24 between Nizamuddin Bridge and Indirapuram is one of the busiest stretches during peak hours. About two years ago, the daily traffic movement on this stretch was nearly 1.4 lakh passenger car units (PCUs).

In the recent years, areas beyond Ghaziabad border have emerged as prime residential destination for people working in Delhi. A traffic survey by RITES in 2008 had shown that vehicular growth on this stretch had increased by almost 200% more than the highway’s carrying capacity.

http://epaper.timesofindia.com/Default/Scripting/ArticleWin.asp?From=Archive&Source=Page&Skin=TOINEW&BaseHref=CAP/2010/08/26&PageLabel=9&EntityId=Ar00901&ViewMode=HTML&GZ=T

Bigger and better

With the NHAI planning to convert the four-lane road between the Delhi border and Hapur into a six-lane highway, NCR can hope for better connectivity

Monika Saini

Here is some good news for those with a house or are planning to buy one on NH-24 beyond the Delhi-Ghaziabad border. The National Highways Authority of India (NHAI) now plans to widen the four-lane road between the Delhi border and Hapur and convert it into a six-lane highway. This single move will improve connectivity between Delhi and the upcoming suburbs like Indirapuram, Crossings Republik and sub-cities like Hapur.
The widening of the 28km stretch between Delhi border and Hapur has been mooted to cater to the growing traffic demand on this corridor. Though the plan was conceived years ago, it has not taken off so far. Now, with the occupancy increasing in the upcoming colonies along the NH-24 and reports of increasing snarl-ups, the widening of this long stretch has gained all the more importance. Already, work of eightlaning between Nizamuddin bridge and Ghaziabad border is underway and it is likely to be completed by the time of the Commonwealth Games in October. Moreover, the major bottleneck at Ghazipur crossing will also be done away with by June, when the junction becomes signalfree.
The stretch of NH-24 between Nizamuddin bridge and Ghaziabad border is one of the busiest corridors
during peak hours, which leads up to the capital. In recent years, areas beyond Ghaziabad border have emerged as prime residential destinations for people working in Delhi because of comparatively cheap housing options. “If widening of NH-24, which is the sole major link to Delhi from these already developed colonies, is not taken up now, this stretch will be a nightmare in the next couple of years. Complete occupancy in Indirapuram alone will generate enough vehicular traffic to choke the present highway,” said an official the highways ministry.
Sources said that soon, a feasibility study for the widening work will be carried out and the project could be expedited for execution. However, officials also said that this stretch of NH-24 up to Dasna in Ghaziabad will also form part of the proposed 66km Delhi-Meerut expressway.
A rough estimate suggests that from Dasna onwards, the traffic volume will reduce significantly. But since Hapur and its adjoining areas are coming up rapidly due to real estate development, the traffic demand will also grow at the same rate. Already, the NH-24 beyond Hapur is fourlaned and that goes up to Lucknow.
A traffic survey by RITES in 2008 had shown that the vehicular traffic on this stretch had increased by almost 200% its capacity. The vehicular growth on this stretch has increased further in last two years.

HIGHLIGHTS
The NHAI plans to widen the four-lane road between Delhi border and Hapur to six-lane
The widening of the 28-km stretch aims to cater to the growing traffic demands
The work for eightlaning between Nizamudding Bridge and Ghazibad is underway
The major bottleneck at Ghazipur crossing will also be done away by June, when the junction becomes signal free

http://epaper.timesofindia.com/Default/Layout/Includes/ETNEW/ArtWin.asp?From=Archive&Source=Page&Skin=ETNEW&BaseHref=ETD%2F2010%2F05%2F07&ViewMode=HTML&GZ=T&PageLabel=23&EntityId=Ar02300&AppName=1

बिना सब-वे चौड़ा होगा एनएच24
21 Aug 2010, 0530 hrs IST,नवभारतटाइम्स

नगर संवाददाता॥ गाजियाबाद
पीडब्ल्यूडी नेएनएच24 चार सेछहलेनका इस्टीमेट केंद्रसरकार कीअनुमतिके लिएभेजदिया है।इसीकेसाथ पांचअंडरपास काडिजाइनभी तैयारकरलिया है।अलबत्ता इसरोडके दोनोंओरसबवे बनानेकाकोई इरादानहीं जतायाहै। इससेइस प्रोजेक्टका इस्टीमेट केवल88 करोड़ रुपयेपरथम गया है।

यूपी गेटसेएनएच24 डासनातकचार सेछहलेन बनायाजाना है। पीडब्ल्यूडी केइइंरवि दत्तकाकहना हैकिपहलेइस रोडकोआठलेन बनानेका प्रस्तावथा। इसकेलिए तैयारकिया गया270 करोड़ रुपयेका इस्टीमेट केंद्रसरकार नेनामंजूरकर दियाथा। सरकारका सुझावहैकि इसेफर्स्ट फेजमेंचारसे छहलेनकिया जाए।चूंकि मिट्टीकी भराईभीहोनी हैऐसेमेंचार सेसीधेआठलेन बनानेमें काफीवक्तलग सकताहै।

एनएचएआईकी ओरसेसौंपेगए इसप्रोजेक्ट केलिए पीडब्ल्यूडी नेअब88 करोड़ काइस्टीमेट मंजूरीकेलिए भेजाहै। उम्मीदकीजा रहीहै इस्टीमेटऔर डिजाइनइसी महीनेमंजूर होजाएगा। विभागके मुताबिकइस रोडकोचौड़ा करनेकेसाथही इसपरयूपीगेट सेडासनातक चारअंडरपास बनानेकी प्लानिंगथी, अबपांचअंडर पास प्रस्तावित हैं।नयाअंडर पासमहरौली गांवकेपासके लिएशामिल कियागयाहै। पीडब्ल्यूडी नेसड़कको चौड़ाकरनेके साथहीरोडके दोनोंऔर सिंगललेनसब वेकीभी प्लानिंगकी थीजिसे केंद्रने मंजूरनहीं किया।

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/6383168.cms

22 Feb, 2008, 04.34AM IST, Akash Vashishtha,TNN

NH-24 near Delhi emerges as cradle of housing investment

Given the surge in prices of residential real estate across key UP cities – Noida, Greater Noida and Ghaziabad (part of the national capital region), the National Highway-24 has emerged as the cradle of investment for housing properties, in the last four years. For those willing to settle in green zone and yet remain within a stone’s throw from Delhi, NH-24 , in recent years, has come up as a prime alternative for those seeking affordable homes.
Not only has the stretch provided nextstep destination to buyers, located on the hem of East Delhi, it enjoys key facilities like being attached to Ghaziabad, and also at a convenient distance from Delhi. Apart from the country-wide popular townships like Indirapuram, NH-24 has seen the establishment of settlements like Crossings Republik, Ansals API Aquapolis, and Hi-Tech city.
Sanjeev Srivastava, chief executing officer (CEO), Crossings Infrastructure, says: “NH-24 absorbs the influence of Delhi and the neighbouring ‘hot township’ of Indirapuram. We landed here after realizing a logical growth potential in the area. The highway has a number of colleges. If the highway is being widened, it offers a lot of scope for inhabitants and residents of these future townships.” These townships promoted by single firms or consortium of builders say they are offering premium facilities within affordable range.
Key townships
While Crossings Republik is being developed by a syndicate of seven builders including Gaursons India, Assotech, Mahagun, Suptertech, Paramount, Ajnara and Panchsheel groups on about 360 acres, Ansals API is another township that is being raised by Ansals API on around 125 acres. Both the townships, located with easy accessibility to Delhi, Ghaziabad and Greater Noida, offer customers a host of choices from basic to premium to luxurious 2-3-4 bedroom choices. Developers are also offering discounts on early bookings to buyers.Crossings Republik is being developed on an integrated-mode of development with facilities of a hospital, markets and education centres within the township.
Proximity to National Capital
“NH-24 has come up as an area for people who want to live close-by to the National Capital. Most bookings have come from people who have their professional calling in Delhi. People who have booked their houses are more of buyers than investors,” says Raman Singh, a local property consultant. “And , if the GDA improves its surrounding infrastructure, the quality of life in the settlements located alongside the NH-24 would considerably improve,” he adds.
Hi-Tech township
Even areas beyond the Hi-Tech city are geared for development with private builders in the process of acquiring land. Further, on the NH-24 , the Hapur Pilakhuwa Development Authority (HPDA) is keen to develop pockets on its land.

The Hi-Tech township is also high on the priorities of Ghaziabad Development Authority (GDA) and private developers. Much is being speculated on the prospects of the township, which is to be developed by Uppal Chadha group and Suncity Projects.

The Mayawati government has also announced a Hi-Tech Township Policy 2007 for the development of Hi-Tech townships across the state. As per the policy, the townships would be developed on a minimum of 1500 acres of land and seeks a capital outlay of at least Rs 1000 crores.
A strategic highway
Besides supporting several residential townships, the highway is the main connecting route between Delhi and Kumaon region. Nearly 5000 tourists traverse between Delhi and Uttarakhand through this road.
The flip side
The traffic explosion on NH-24 is a grave threat to the development of the region! Considered to be one of the most fatal and fast highways, National Highway-24 witnesses huge jams and bumper-tobumper traffic during peak hours and this has taken away the sheen off the area, to a great extent. The situation is particularly bad at Sales Tax Chungi near Vijay Nagar intersection, where long queues of parked trucks can be seen through the day on roadsides. Experts say the problem is only going to worsen in the coming years, if the authorities do not step in to address the problem.
Being the main connecting road between Ghaziabad, Noida and Delhi, people from Ghaziabad, take this route to heading for Noida, Greater Noida and Delhi.
Rakhi Agwarwal, a senior manager with a leading multinational bank in Delhi, who takes this route to her office everyday, says: “It is a very harrowing scene during peak hours when the traffic simply crawls or comes to a halt entirely. There is hardly any traffic sense to be seen on the road. While in one lane there are buses and cycles, in the other, there is fast flow of cars and twowheelers. It’s very difficult driving through this stretch. What will happen to after two years later?”
Road widening, need of the hour
Till sometime back, the PWD, and NHAI denied working on any such plan to widen the highway. Mohammad Nisar, executive engineer (PWD), said: “Although a major section of the NH-24 stretch between Delhi-UP Border and Ghaziabad is with us but we are not executing any such proposal of widening the highway. The matter is pending with the ministry of surface transport, which is looking after this section.” According to Nisar, a private consulting firm had already submitted the proposal to the ministry in June 2006.

Source: http://economictimes.indiatimes.com/articleshow/msid-2803172,prtpage-1.cms

29 Jun, 2006, 12.00AM IST, Neelam Raaj,TNN

Ghaziabad is ‘India’s hottest city’!

NEW DELHI: Believe it or not — and many inhabitants who have to battle pathetic infrastructure, chaotic traffic and soaring crime probably won’t — Ghaziabad is in Newsweek’s list of 10 most dynamic cities in the world. For good measure, it has also been billed ‘‘India’s hottest city’’.

Top 10 dynamic cities

1. Las Vegas, US

2. Fukuoka, Japan

3. Toulouse, France

4. Nanchang, China

5. Moscow, Russia

6. Ghaziabad, India

7. Goyang, S Korea

8. Florianspolis, Brazil

9. Munich, Germany

10. London, UK

Based on an advance copy of the latest UN forecasts for cities with populations greater than 750,000, Newsweek’s list encompasses the fastest-growing cities in each of the world’s 10 most important economies. Only two major capitals — Moscow and London, which continue to outpace smaller rivals for unique national reasons — figure on it while the rest are aspiring middleweights like Toulouse, Munich and Las Vegas, or unknowns like Florianspolis (Brazil), Goyang (South Korea) and Fukuoka (Japan).

Sanjay Verma, joint managing director of Cushman & Wakefield, attributes the rapid growth to Ghaziabad’s excellent connectivity with Delhi, which creates more new jobs per year than Bangalore and Hyderabad, as well as an established IT destination like Noida. ‘‘It’s very strategically located on the old Grand Trunk Road. Not only does it attract a sizeable IT/ITES workforce from Noida, it is affordable for those who can’t afford Delhi prices,’’ he says.

R C Mishra, Ghaziabad Development Authority secretary, doesn’t deny that the rapid industrial development in Ghaziabad is the result of a spillover from Noida and Greater Noida. ‘‘Sahibabad was conceived as an industrial estate but Ghaziabad’s growth has been quite recent,’’ he says. Today, the city has more than 14,000 small-scale industrial units and larger plants run by giants like Coca-Cola and ITC.

Source: Ghaziabad Listed in World’s top 10 Hot Cities in Newsweek Magazine

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: